एडवांस्ड सर्च

...जब अटल बिहारी वाजपेयी ने अचानक जनता से मांग लिया पायजामा

एक बार अटल बिहारी वाजपेयी ने जनता से पूछा, 'अगर मैं केवल कुर्ता पहनूं और पायजामा न पहनूं, तो कैसा दिखूंगा?' अटल के इस सवाल पर जनता हैरत में थी कि दरअसल अटल क्या कहना चाहते हैं? इस बीच कोई चिल्लाया...खराब दिखेंगे. इस पर अटल ने कहा, 'लखनऊ से सांसद का चुनाव जिताकर आप लोगों ने मुझे कुर्ता दिया. अब आपको मुझे नगर निगम मेयर चुनाव में जिताकर पायजामा भी देना चाहिए.'

Advertisement
aajtak.in
राम कृष्ण लखनऊ, 18 August 2018
...जब अटल बिहारी वाजपेयी ने अचानक जनता से मांग लिया पायजामा अटल बिहारी वाजपेयी (फाइल फोटो)

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) पंचतत्व में विलीन हो गए हैं, लेकिन उनके राजनीतिक कॅरियर की यादें आज भी ताजी हैं. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के कपूरथला चौराहे पर साल 2006 में एकत्रित बीजेपी कार्यकर्ता और अटल बिहारी वाजपेयी के प्रशंसक उस समय हैरत में पड़ गए, जब पूर्व प्रधानमंत्री ने उनसे अचानक पायजामा मांग लिया.

उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने भावुक होते हुए कहा, 'अटल बिहारी वाजपेयी मेयर चुनाव के दौरान मेरे समर्थन में सभा करने कपूरथला पहुंचे. उन्हें तेज बुखार था. उन्होंने भाषण की शुरूआत की और कहा कि वो अपनी छवि मुझमें देखते हैं. उन्होंने जनता से कहा कि अगर वो वाकई इस नारे को मानती है कि 'हमारा नेता कैसा हो, अटल बिहारी जैसा हो' तो उसे मेरा समर्थन करना चाहिए.'

दिनेश शर्मा ने कहा, 'अटल के भाषणों का जनता पर बहुत असर होता था. उन्होंने जनता से पूछा कि अगर वो केवल कुर्ता पहनें और पायजामा न पहनें तो कैसे दिखेंगे? अटल के इस सवाल पर जनता हैरत में थी कि दरअसल अटल क्या कहना चाहते हैं? इस बीच कोई चिल्लाया...खराब दिखेंगे. अटल ने कहा कि लखनऊ से सांसद का चुनाव जिताकर आप लोगों ने मुझे कुर्ता दिया. मुझे नगर निगम मेयर चुनाव में जीत दर्जकर पायजामा भी चाहिए.'

यूपी के उप मुख्यमंत्री शर्मा ने कहा, 'अटल के बयान ने मुझे जीत दिलाई. मैं साल 2006 से 2017 तक लखनऊ का मेयर रहा.' इसके बाद विधानसभा चुनाव में बीजेपी की जीत के बाद योगी सरकार में दिनेश शर्मा को उप मुख्यमंत्री बनाया गया.

अटल बिहारी वायपेयी साल 1991, 1996, 1998, 1999 और 2004 में लखनऊ से लोकसभा सदस्य चुने गए थे. वो बतौर प्रधानमंत्री अपना कार्यकाल पूर्ण करने वाले पहले और अभी तक एकमात्र गैर-कांग्रेसी नेता हैं. 25 दिसंबर, 1924  में जन्मे वाजपेयी ने भारत छोड़ो आंदोलन के जरिए 1942 में भारतीय राजनीति में कदम रखा था.

मालूम हो कि शुक्रवार को भारत रत्न और बीजेपी के दिग्गज नेता अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee) पंचतत्व में विलीन हो गए. गुरुवार शाम पांच बजकर पांच मिनट पर नई दिल्ली के एम्स में पूर्व पीएम वाजपेयी ने अंतिम सांस ली थी. शुक्रवार शाम को नई दिल्ली के राष्ट्रीय स्मृति स्थल पर राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया. अटल बिहारी वाजपेयी को उनकी पुत्री नमिता भट्टाचार्य ने शाम पांच बजे मुखाग्नि दी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay