एडवांस्ड सर्च

जिसके हाथ में जितनी आईं, ले गया, देखें- स्टेशन पर कैसे मची पानी की बोतलों की लूट

उत्तर प्रदेश के दीनदयाल उपाध्याय स्टेशन पर यात्रियों द्वारा पानी की बोतलें लूटने का मामला सामने आया है. श्रमिक स्पेशल ट्रेन प्लेटफॉर्म संख्या एक पर खड़ी थी तभी स्टोर से श्रमिक पानी की बोतलें लूटने लगे.

Advertisement
aajtak.in
उदय गुप्ता नई दिल्ली, 23 May 2020
जिसके हाथ में जितनी आईं, ले गया, देखें- स्टेशन पर कैसे मची पानी की बोतलों की लूट दीनदयाल उपाध्याय स्टेशन पर मजदूरों ने लूटीं पानी की बोतलें

  • ट्रेन से उतरकर यात्रियों ने लूटीं पानी की बोतलें
  • मामले की जांच के लिए बनाई गई समिति
देश के अलग-अलग राज्यों में फंसे प्रवासी मजदूर अब अपने घरों की ओर लौट रहे हैं. श्रमिकों की घरवापसी स्पेशल ट्रेनों के जरिए कराई जा रही है. इन ट्रेनों में सवार श्रमिकों द्वारा खाने-पीने के सामानों को लूटने के भी मामले सामने आ रहे हैं.

ताजा मामला दिल्ली हावड़ा रेल रूट के सबसे ज्यादा व्यस्त रेलवे स्टेशनों में शुमार पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन का है. डीडीयू जंक्शन पर सूरत से मुंगेर जा रही श्रमिक स्पेशल ट्रेन के यात्रियों ने स्टेशन पर रखे पानी की बोतलों को लूट लिया.

शनिवार को ट्रेन के प्लेटफार्म नंबर एक पर रुकते ही सैकड़ों की तादाद में श्रमिक पानी की बोतलों पर टूट पड़े और लूटना शुरू कर दिया. जिसके हाथ में जितनी बोतलें आ रहीं थीं, उतना ही लेकर वह भाग रहा था.

डीडीयू रेल मंडल के डिविजनल रेलवे मैनेजर (डीआरएम) पंकज सक्सेना ने बताया कि इस मामले में जांच कमेटी बना दी गई है. रेलवे का उद्देश्य उन श्रमिकों पर कार्रवाई करने का नहीं है, लेकिन यह तय करना है कि किसी भी तरह भविष्य में ऐसी घटनाएं न दोहराई जाएं.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

घटना की कराई जाएगी जांच

उन्होंने कहा, 'श्रमिक स्पेशल काफी ज्यादा संख्या में यहां आ रही हैं. डीडीयू मंडल इस बात के लिए प्रयासरत रहा है कि ज्यादा से ज्यादा जो दिन में गाड़ियां गुजरती हैं, उनमें खाना और पानी की सप्लाई हो सके. इसी सिलसिले में एक वीडियो संज्ञान में आया है जिसमें कुछ लोग ट्रेनों से उतर कर पानी ले जा रहे हैं. जैसा मुझे पता चला है इसके लिए विस्तृत इंक्वायरी ऑर्डर कर दी गई है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

पंकज सक्सेना ने कहा, 'उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए. प्रारंभिक रिपोर्ट के मुताबिक लूट के वक्त पानी सप्लाई हुआ था. स्टोर में भेजने के लिए गाड़ियों के संचालन को नहीं रोका जा सकता था. यह गंभीर मामला नहीं है, लेकिन भविष्य में इसका दोहराव न होने पाए, इस पर विचार किया जाएगा.'

यात्रियों ने लूटीं पानी की बोतलें

रेलवे प्रशासन के मुताबिक इस स्टेशन पर 40 से 50 हजार बोतल हर दिन सप्लाई किया जाता है. करीब-करीब 25 से 30 हजार लोगों को खाना सप्लाई किया जाता है. रेलवे प्रशासन का यह भी दावा है कि 99.9 फीसदी लोग यहां के इंतजाम से संतुष्ट हैं. इस मामले में ज्यादा जानकारी के लिए जांच गठित की गई है, जिससे दोबारा ऐसी घटना न दोहराई जा सके. सवाल यह भी उठाए जा रहे हैं कि मजदूरों को पानी की बोतलों को इस तरह लूटने के लिए मजबूर क्यों होना पड़ा.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay