एडवांस्ड सर्च

कोरोना का कहर: मायावती और अखिलेश ने गरीबों के लिए सरकार से लगाई आर्थिक मदद की गुहार

कोरोना वायरस के प्रकोप से निपटने के लिए लगाए लॉकडाउन के दूसरे दिन बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने केंद्र के साथ राज्य सरकार से इस संकट की घड़ी में गरीबों के लिए सरकार से आर्थिक मदद की मांग की है. अखिलेश ने कहा कि सरकार मदद करे ताकि गरीबों को घास खाने के लिए मजबूर न होना पड़े.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली/लखनऊ, 26 March 2020
कोरोना का कहर: मायावती और अखिलेश ने गरीबों के लिए सरकार से लगाई आर्थिक मदद की गुहार बसपा प्रमुख मायावती और सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव (फाइल फोटो

  • कोरोना वायरस से निपटने के लिए देश भर में लॉकडाउन
  • अखिलेश ने कहा सरकार करें मदद गरीब न खाएं खाना

कारोना वायरस के तेजी से बढ़ते प्रकोप के चलते भारत में बेहद गंभीर स्थिति बनती जा रही है, जिसकी वजह से पीएम नरेंद्र मोदी ने देशभर में पूरी तरह से लॉकडाउन कर दिया है. लॉकडाउन के आज दूसरे दिन बहुजन समाज पार्टी की अध्यक्ष मायावती और सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने केंद्र के साथ राज्य सरकार से इस संकट की घड़ी में गरीबों के लिए सरकार से आर्थिक मदद की मांग की है.

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा, 'इस कठिन समय में सरकार को तत्काल देश के सभी जन-धन खाताधारकों के बैंक एकांउट में सहायता धनराशि ट्रांसफर करने का प्रबंध करना चाहिए. साथ ही जो लोग रास्तों पर भटक रहे हैं उनके भोजन-पानी, चिकित्सा और सुरक्षित दूरी बनाए रखते हुए रैन-बसेरों का भी इंतजाम सरकार को करना चाहिए.

सपा प्रमुख ने केंद्र और राज्य सरकार से अपील है कि गरीब लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था तत्काल करे जिससे कि लोग घास खाने पर मजबूर न हों और साथ ही सब्ज़ी जैसी दैनिक उपयोग की चीजों पर पुलिस संयम बरते. इससे पहले बुधवार अखिलेश यादव ने जनता से इस लॉकडाउन में सहयोग की अपील की थी. उन्होंने ट्वीट कर कहा था, 'आगे के सुखद भविष्य के लिए 21 दिन अहम हैं. प्रत्येक नागरिक को सभी भेदभाव और मतभेदों को छोड़कर कोरोना वायरस के खिलाफ एकजुट होने की जरुरत है.

साथ ही बसपा प्रमुख मायावती ने कोरोना वायरस के कहर से बचाव की खातिर 21 दिन के लॉकडाउन के बीच केंद्र तथा उत्तर प्रदेश सरकार ने गरीबों के लिए आर्थिक मदद की मांग की है. मायावती ने कहा कि देश की 130 करोड़ गरीब और मेहनतकश जनता पर 21 दिनों के लॉकडाउन/कर्फ्यू वाली पाबन्दियों को कड़ाई से लागू करने के बाद खासकर लोगों का पेट भरने अर्थात उनकी रोटी-रोजी की समस्या को दूर करने के लिए केन्द्र व राज्य सरकारों द्वारा राहत पैकेज की व्यवस्था बहुत ही जरूरी. सरकार इसपर तुरंत ध्यान दें.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

बसपा प्रमुख मायावती ने कहा कि साथ ही इस देशबन्दी में प्राइवेट सेक्टर को लॉकडाउन को लेकर उन्हें दी गई विभिन्न रियायतों के साथ-साथ वहां काम करने वाले लोगों को भी महीने का वेतन दिलाने की व्यवस्था केन्द्र व राज्य सरकारों को सुनिश्चित करनी चाहिए. साथ ही मायावती ने लोगों से भी अपील की है कि वे सरकारी निर्देशों का अनुपालन करें.

बता दें कि मायावती ने बुधवार को ट्वीट कर कहा था कि कोरोना महामारी को लेकर देश और उत्तर प्रदेश में भी जबर्दस्त लॉकडाउन से आम जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त है. करोड़ों गरीब व दैनिक मेहनतकश लोग भूखमरी जैसी विपत्ति का सामना कर रहे हैं. ऐसे में यह बहुत जरूरी है कि केन्द्र व राज्य सरकारें उनकी तत्काल समुचित आर्थिक मदद करें. साथ ही मायावती ने बसपा के सभी सामर्थ्यवान लोगों से भी विशेष अपील है कि वे इस लॉकडाउन में अति-जरूरतमंगों की भरसक मदद करने का पूरा-पूरा प्रयास करें.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay