एडवांस्ड सर्च

अयोध्या केस: विरोध के बाद मुस्लिम पक्ष ने फिर दाखिल किया मॉल्डिंग ऑफ रिलीफ पर नोट

अयोध्या मामले में हिन्दू पक्षकारों के विरोध के बाद अब मुस्लिम पक्ष ने हलफनामे के जरिए मॉल्डिंग ऑफ रिलीफ पर अपना नोट दाखिल किया है.

Advertisement
aajtak.in
संजय शर्मा नई दिल्ली, 20 October 2019
अयोध्या केस: विरोध के बाद मुस्लिम पक्ष ने फिर दाखिल किया मॉल्डिंग ऑफ रिलीफ पर नोट सुप्रीम कोर्ट में मॉल्डिंग ऑफ रिलीफ दाखिल (तस्वीर-IANS)

  • मुस्लिम पक्ष ने मॉल्डिंग ऑफ रिलीफ पर दाखिल किया सुप्रीम कोर्ट में नोट
  • ऐतिहासिक, सामाजिक और सांस्कृतिक विरासत का ध्यान रखने की अपील
  • दलील, सबूत और दस्तावेजों के साथ बहुलता वादी संस्कृति पर हो गौर

अयोध्या मामले में हिन्दू पक्षकारों के विरोध के बाद अब मुस्लिम पक्ष ने हलफनामे के जरिए मॉल्डिंग ऑफ रिलीफ पर अपना नोट दाखिल किया है.

नोट में कहा गया है कि कोर्ट का जो भी फैसला होगा, वो देश के भविष्य और आने वाली पीढ़ियों की सोच पर असर डालेगा. फैसला देश की आजादी और गणराज्य के बाद संवैधानिक मूल्यों में यकीन रखने वाले करोड़ों नागरिकों पर भी प्रभाव डालेगा.

इसमें लिखा है कि अब चूंकि फैसले की घड़ी आ पहुंची है तो कोर्ट फैसला देते समय सभी पक्षों की दलील, सबूत और दस्तावेजों के साथ इन प्रभावों का भी ध्यान रखे.

मुस्लिम पक्षकारों ने अपने नोट में उम्मीद जताई है कि मॉल्डिंग ऑफ रिलीफ के जरिए भी कोर्ट इस महान देश के ऐतिहासिक, सामाजिक और सांस्कृतिक विरासत का भी ध्यान रखेगा , ताकि हमारी सदियों पुरानी गौरवशाली साझी विरासत और बहुलतावादी सामंजस्य वादी संस्कृति बनी रहे.

वहीं नोट के आखिर में यह भी कहा गया है कि मोल्डिंग ऑफ रिलीफ के जरिए हमारा संविधान इन्हीं मूल्यों को बचाए और बनाए रखने की जिम्मेदारी भी कोर्ट को ही सौंपता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay