एडवांस्ड सर्च

यूपी: बरेली जा रहा था प्रवासी परिवार, मां की गोद में 10 दिन के बच्चे ने तोड़ा दम

भीड़ में रायबरेली के लालगंज निवासी सुरेश और उसकी पत्नी निशा भी फंसे थे. निशा के हाथ में दस दिन का बच्चा भी था. जब वह बस तक पहुंच गए तो उन्होंने महसूस किया कि बच्चे में हलचल नहीं थी.

Advertisement
aajtak.in
कृष्ण गोपाल राज बरेली, 27 May 2020
यूपी: बरेली जा रहा था प्रवासी परिवार, मां की गोद में 10 दिन के बच्चे ने तोड़ा दम प्रतीकात्मक तस्वीर

  • मां की गोद में 10 दिन के बच्चे ने तोड़ा दम
  • हरियाणा से बरेली के टीपीनगर पहुंचे थे प्रवासी

बरेली से दिलदहला देने वाला मामला सामने आया है. हरियाणा से प्रवासियों को लेकर चली रोडवेज की एक बस बुधवार दोपहर को बरेली के टीपीनगर पहुंची. यहां से प्रवासियों को दूसरी बस के जरिए रायबरेली की ओर रवाना होना था. इस बीच एक दुखद घटना घटी. बस के इंतजार में एक मां की गोद में उसका 10 दिन का बच्चा मर गया.

गौरतलब है की देश भर से इस तरह की दिल दहला देने वाली खबरें आ रही है. कहीं प्रवासी मजदूर ट्रेन में बच्चे को जन्म देने के लिए मजबूर हैं तो कहीं बस में, कहीं बीमारी और गरीबी के कारण बच्चों की मौत हो रही है. ऐसा ही दुखद मामला बरेली से सामने आया. जहां भीषण गर्मी के बीच प्रवासी दूसरी बस में चढ़ने को लेकर धक्का-मुक्की कर रहे थे.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

इस भीड़ में रायबरेली के लालगंज निवासी सुरेश और उसकी पत्नी निशा भी फंसे थे. निशा के हाथ में दस दिन का बच्चा भी था. जब वह बस तक पहुंच गए तो उन्होंने महसूस किया कि बच्चे में हलचल नहीं थी. यह देख निशा ने शोर मचाना शुरू कर दिया. आनन फानन में जिला प्रशासन ने बच्चे को जिला अस्पताल पहुंचाया जहां डॉक्टरों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया.

वहीं, इस मामले में बरेली सदर के एसडीएम ईशान प्रताप सिंह ने बताया कि उन्हें दोपहर करीब 1 बजे सूचना मिली थी कि प्रवासी जोड़े के एक बच्चे की मौत हो गई है. वह बच्चा 10 दिन का था और वह अपनी मां के साथ हरियाणा से हमारे कलेक्शन प्वाइंट पर आया था. इस बीच जब उनकी बस का अरेंजमेंट हो रहा था तो मुझे ये सूचना मिली कि बच्चे ने हलचल करना बंद कर दिया.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

जब उन्होंने बताया तो हमने बच्चे को गाड़ी से जल्दी हॉस्पिटल भेजा. हॉस्पिटल के डॉक्टरों ने बच्चे का चेकअप किया. जिला अस्पताल इमरजेंसी वार्ड के डॉक्टर हरीश ने बताया कि बच्चे की मौत हो गई है. उसके बाद बच्चे के परिजनों से पूछा गया कि आगे क्या करना चाहते हैं. यहां रुकना चाहते हैं या अपने गृह जनपद जाना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि वो गृह जनपद जाना चाहते हैं इसलिए एक गाड़ी करके उनको रायबरेली भेज दिया गया.

एसडीएम ईशान प्रताप सिंह का कहना है कि जिस समय मैं पहुचा, उस समय बच्चे को हॉस्पिटल पहुंचाना हमारी पहली प्राथमिकता थी, वो हरियाणा से आये थे और उन्हें रायबरेली जाना था. अभी प्राइमरी पूछताछ ही की गई थी कि मां ने तो खाना खाया था लेकिन बच्चा बहुत छोटा था. बच्चा शायद बीमार था या जो कुछ भी था तो उसकी वजह से उसकी मृत्यु हो गई. यही अभी संज्ञान में आया है बाकी तो आगे जांच का विषय है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay