एडवांस्ड सर्च

बस हड़ताल से खफा KCR ने 50 हजार कर्मचारियों को किया बर्खास्त, मचा बवाल

शुक्रवार की रात से राज्य सरकार परिवहन के करीब 50 हजार कर्मचारी अपनी मांगों के लिए हड़ताल पर बैठ गए थे. हड़ताल की वजह से यात्रियों को काफी परेशानी हुई, लेकिन सरकार इनकी मांगों के आगे नहीं झुकी.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in हैदराबाद, 07 October 2019
बस हड़ताल से खफा KCR ने 50 हजार कर्मचारियों को किया बर्खास्त, मचा बवाल बस हड़ताल के खिलाफ राज्य सरकार का एक्शन

  • बस हड़ताल पर तेलंगाना में मुख्यमंत्री केसीआर का बड़ा एक्शन
  • हड़ताल पर गए 50 हजार कर्मचारियों को वापस ना लेने का आदेश
  • 15 दिन में इस फैसले पर दोबारा विचार कर सकती है सरकार
तेलंगाना में त्योहार से पहले आम आदमी के लिए आफत वाली खबर आई है. राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे तेलंगाना राज्य सड़क परिवहन निगम (TSRTC) के करीब 50 हजार कर्मचारियों पर मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने कड़ा एक्शन लिया है. मुख्यमंत्री ने उन सभी कर्मचारियों को दोबारा नौकरी पर ना लेने का ऐलान किया है, जिन्होंने इस हड़ताल में हिस्सा लिया था. राज्य सरकार के इस फैसले से पूरे तेलंगाना में हड़कंप-सा मच गया है और राजनीतिक बवाल भी शुरू हो गया है.

शुक्रवार की रात से राज्य सरकार परिवहन के करीब 50 हजार कर्मचारी अपनी मांगों के लिए हड़ताल पर बैठ गए थे. हड़ताल की वजह से यात्रियों को काफी परेशानी हुई, लेकिन सरकार इनकी मांगों के आगे नहीं झुकी.

रविवार को मुख्यमंत्री ने इस मुद्दे पर बैठक बुलाई और साफ अल्टीमेटम दिया कि अगर निश्चित समय के अंदर हड़ताल करने वाले कर्मचारी वापस नहीं आए तो उन्हें नौकरी पर नहीं माना जाएगा. सरकार ने अभी भी कर्मचारियों को 15 दिन का समय दिया है, इसी बीच विचार किया जाएगा कि इन्हें वापस नौकरी पर लेना है या नहीं.

मुख्यमंत्री के इस आदेश के बाद राज्य में बीजेपी और कांग्रेस सरकार का विरोध कर रही हैं और बस कर्मचारियों को बर्खास्त किए जाने वाले फैसले को वापस करने की बात कह रही हैं.

त्योहारी सीजन में बढ़ गई परेशानी

हड़ताल की वजह से सैकड़ों यात्री बस स्टेशनों में फंस गए हैं. 10,000 से अधिक बसें बस डिपो में ही रहने के कारण दशहरा और बतुकम्मा त्योहार के लिए घर जा रहे यात्रियों को असुविधाओं का सामना करना पड़ रहा है. अधिकारी 2100 बसों को किराए पर लेकर अस्थायी चालकों और अन्य श्रमिकों को तैनात कर बस सेवा को जैसे-तैसे संचालित कर रहे हैं, सेवा में कुछ स्कूली बसों को भी लगाया गया है.

क्या हैं मांगें?

इन कर्मचारियों की मांग थी कि उनका सरकारी सिस्टम में विलय किया जाए. इसके अलावा वेतन पुनरीक्षण, नौकरी की सुरक्षा, बकाया राशि का भुगतान और रिक्तियों को सरकार की तरफ से भरा जाए. संगठन के अनुसार काम कर रहे 50 फीसदी से ज्यादा लोग अनुबंध के आधार पर कार्यरत हैं, इन्हें पक्का किया जाए. इसके अलावा बसों की संख्या भी बढ़ाई जाए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay