एडवांस्ड सर्च

J-K: DGP दिलबाग सिंह बोले- हथियार उठाने से सिर्फ मौत मिलेगी

जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा कि घाटी में हथियार उठाने से सिर्फ मौत मिलेगी. डीजीपी ने दावा किया कि कश्मीर में हालात सामान्य है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in 23 October 2019
J-K: DGP दिलबाग सिंह बोले- हथियार उठाने से सिर्फ मौत मिलेगी जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह (तस्वीर-ANI)

  • डीजीपी दिलबाग सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में दी जानकारी
  • हामिद लेलहारी को पुलिस ने किया ढेर
  • घाटी में घट रही आतंकियों की संख्या
  • हथियार उठाने पर घाटी में मिलेगी सिर्फ मौत

जम्मू और कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा है कि अगर घाटी में कोई हथियार उठाता है तो उसे सिर्फ मौत मिलेगी. जम्मू कश्मीर के अवंतीपोरा में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी मिली है. सुरक्षाबलों ने गजवत-उल-हिंद के चीफ हामिद हामिद लेलहारी को ढेर कर दिया गया है.

हामिद लेलहारी के साथ दो और आतंकियों को सुरक्षाबलों ने ढेर किया है. जाकिर मूसा के बाद हामिद लेलहारी को गजवत-उल-हिंद का चीफ बनाया गया था. जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा कि घाटी में हथियार उठाने से सिर्फ मौत मिलेगी.

डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा कि ये आतंकी पुलवामा और शोपियां में लोगों की हत्याओं में शामिल थे. इस ग्रुप के मारे जाने से घाटी में आतंक का सफाया होगा. आतंकियों के पास से भारी मात्रा में हथियार और गोला-बारूद बरामद किया गया है. उन्होंने कहा कि कश्मीर में हालात सामान्य है.

आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन जारी

डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा कि हमने आतंकवादियों के खिलाफ फिर से अभियान शुरू कर दिया है. मंगलवार को तीन आतंकवादी मारे गए थे और वे सभी अंसार गजवत उल हिंद के थे.

जाकिर मुसा के बाद हामिद लेलहारी ने इस समूह की कमान संभाली थी. हामिद मंगलवार मुठभेड़ में मारे गए लोगों में से एक है. वह नागरिकों और पुलिसकर्मियों पर किए गए अलग-अलग हमलों में शामिल था. जब से घाटी से अनुच्छेद 370 को हटाया गया है तभी से वह लोगों को धमकी दे रहा था. इस मुठभेड़ में जुनैद रशीद भी मार दिया गया है.

उग्रवाद से दूर हुए कश्मीरी युवा

कश्मीर घाटी से गजवत-उल-हिंद का सफाया हो गया है. बहुत से लोगों ने यह सोचा था कि कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद घाटी में स्थानीय युवा उग्रवाद की ओर बढ़ेंगे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. अब उग्रवाद में कश्मीरी युवा कम शामिल हो रहे हैं.

घाटी में आतंकियों की संख्या घटी

घाटी में नए आतंकियों की संख्या बेहद कम है, जिसे निशाने पर लिया जा सकता है. किसी पर अत्याचार नहीं किया गया है. किसी भी किशोर को गिरफ्तार नहीं किया गया है. किशोर अधिनियम के सभी प्रावधानों का उपयोग किया गया है . छात्रों को स्कूल नियमित जाना चाहिए और अपनी परीक्षाओं की तैयारी की जानी चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay