एडवांस्ड सर्च

'धर्मनिरपेक्ष' PM के बयान पर नीतीश से सुशील कुमार मोदी सहमत!

बिहार के उप मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी  के नेता सुशील कुमार मोदी ने भी इशारे ही इशारे में मुख्यमंत्री के बयान पर अपनी सहमति जता दी है. हालांकि उन्होंने गठबंधन पर किसी खतरे की संभावना से इंकार किया है.

Advertisement
aajtak.in
आजतक ब्यूरो/आईएएनएस पटना, 19 June 2012
'धर्मनिरपेक्ष' PM के बयान पर नीतीश से सुशील कुमार मोदी सहमत! सुशील कुमार मोदी

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) द्वारा उदारवादी और सेक्यूलर (धर्मनिरपेक्ष) छवि के प्रधानमंत्री चुने जाने संबंधी बयान पर बिहार में राजनीति गरमा गई है.

इस बीच, बिहार के उप मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता सुशील कुमार मोदी ने भी इशारे ही इशारे में मुख्यमंत्री के बयान पर अपनी सहमति जता दी है. हालांकि उन्होंने गठबंधन पर किसी खतरे की संभावना से इंकार किया है.

बिहार के उप मुख्यमंत्री एवं भाजपा के नेता मोदी ने इशारे ही इशारे में मुख्यमंत्री के बयान पर हां में हां मिलाते हुए कहा कि 2014 में होने वाले आम चुनावों में उदारवादी नेता ही प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बने. यह व्यक्ति ऐसा हो, जिसे समाज के सभी वर्ग के लोग स्वीकार करें.

मोदी ने आगे कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जैसे उदारवादी छवि का नेता ही प्रधानमंत्री बने. उन्होंने पटना में पत्रकारों द्वारा बिहार में गठबंधन पर संकट के विषय में पूछे जाने पर कहा कि बिहार में गठबंधन पर कोई खतरा नहीं हैं.

इधर, राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष और पूर्व केन्द्रीय मंत्री लालू प्रसाद ने भी नीतीश के बयान पर चुटकी लेते हुए कहा कि नीतीश को आगे धर्मनिरपेक्षता की परिभाषा बतानी चाहिये. उन्होंने कहा कि आखिर सेक्यूलर कौन है और नीतीश किसके साथ हैं?

इस बीच, बिहार के मत्स्य एवं पशुपालन मंत्री और भाजपा के नेता गिरिराज सिंह कहते हैं कि देश के अंदर दोहरे चरित्र के लोग राजनीति कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि भाजपा की भी संवैधानिक पद पर सेक्यूलर छवि के ही लोगों को बैठाने की नीति है. उन्होंने किसी का भी नाम लिये बिना कहा कि कहीं भी निगाहें और कहीं पर निशाना नहीं चलेगा.

देश में जनता सर्वोच्च है और वही सब कुछ तय करती है. वे कहते हैं कि यह सब बयान वोट की राजनीति है. वे कहते हैं कि प्रारम्भ से ही विपक्ष भाजपा को धर्म के नाम पर राजनीति करने का आरोप लगाते रहे हैं परंतु देश की जनता ने भाजपा को केन्द्र की भी सता सौंपी थी.

गुजरात के मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी के विषय में पूछने पर वे कहते हैं कि वे न केवल धर्मनिरपेक्ष छवि के व्यक्ति है बल्कि उदारवादी और संवेदनशील भी हैं.

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ने एक अंग्रेजी अखबार को दिये गये साक्षात्कार में कहा है कि भाजपा को 2014 में होने वाले आम चुनावों में प्रधानमंत्री पद के लिए धर्मनिरपेक्ष छवि वाले उम्मीदवार को पेश करना चाहिए. उन्होंने कहा कि बिहार में भाजपा और जदयु के बीच गठबंधन है. वे प्रधानमंत्री की दौड़ नहीं है और न ही इसकी लालसा है.

अपने साक्षात्कार में उन्होंने यह भी कहा है कि राजग का नेता ऐसा व्यक्ति बने जो बिहार जैसे अविकसित राज्यों को विकास में प्राथमिकता दे. प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी को बड़ा दल का होना चाहिये.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay