एडवांस्ड सर्च

Advertisement

कांग्रेस और भाजपा के कारण हारी बसपाः मायावती

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में शिकस्त झेलनी वाली बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने बुधवार को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया. इस्तीफा सौंपने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री मीडिया से भी रूबरू हुईं.
कांग्रेस और भाजपा के कारण हारी बसपाः मायावती मायावती
आजतक ब्यूरोनई दिल्ली, 07 March 2012

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में शिकस्त झेलनी वाली बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की अध्यक्ष मायावती ने बुधवार को मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया. इस्तीफा सौंपने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री मीडिया से भी रूबरू हुईं.

मायावती ने कहा कि विधानसभा चुनाव में नतीजे हमारे अनुकूल नहीं आए हैं इसलिए हमारी पार्टी मजबूत विपक्ष की भूमिका निभाएगी. इसके साथ उन्होंने समाजवादी पार्टी के जीतने पर दुख जताया.

उन्होंने कहा कि मुझे दुख है कि प्रदेश में सपा की सरकार आई. यह पार्टी राज्य को और पीछे ले जाएगी.

मीडिया से संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सपा प्रदेश को कई साल पीछे धकेल देगी. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने जो विकास के काम किए हैं, सपा उन्हें ठंडे बस्ते में डाल देगी.

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि 2007 में बदहाली की स्थिति में हमने राज्य की कमान संभाली थी. राज्य की स्थिति सुधारने के लिए सरकार को काफी मेहनत करनी पड़ी. जिसमें केंद्र सरकार से वांछित मदद नहीं मिली. पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि सपा को जिताने में कांग्रेस और भाजपा का बड़ा हाथ है.

मायावती ने कहा कि कांग्रेस के आरक्षण के चुनावी वादे ने मुसलमान वोटरों का ध्रुवीकरण कर डाला. इस अल्पसंख्यक समुदाय ने बीएसपी और कांग्रेस को वोट नहीं दिया. भाजपा को सत्ता में आने से रोकने के लिए मुसलमानों का 70 प्रतिशत वोट समाजवादी पार्टी को गया.

मायावती ने कहा, 'अगड़े समाज का वोट बंटने से भी सपा को फायदा पहुंचा. हालांकि एक बार फिर दलित वोट बैंक पार्टी के पूरी तरह साथ रहा.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay