एडवांस्ड सर्च

उत्तराखंड में 6 दिन बाद खुला चारधाम मार्ग

उत्तराखंड में गत एक पखवाड़े से जारी भारी वर्षा से हुये भूस्खलन तथा पत्थर गिरने की घटनाओं के बाद सड़क पर आये मलबे को साफ कर लेने के बाद से गढ़वाल मंडल में स्थित चारधाम यात्रा मार्ग को वाहनों के लिये खोल दिया गया. इससे राज्य में पिछले दो दिन से खिली धूप से राज्य में चार धाम की यात्रा पर आये तीर्थयात्रियों को सुकून मिला है.

Advertisement
aajtak.in
भाषादेहरादून, 12 July 2011
उत्तराखंड में 6 दिन बाद खुला चारधाम मार्ग

उत्तराखंड में गत एक पखवाड़े से जारी भारी वर्षा से हुये भूस्खलन तथा पत्थर गिरने की घटनाओं के बाद सड़क पर आये मलबे को साफ कर लेने के बाद से गढ़वाल मंडल में स्थित चारधाम यात्रा मार्ग को वाहनों के लिये खोल दिया गया. इससे राज्य में पिछले दो दिन से खिली धूप से राज्य में चार धाम की यात्रा पर आये तीर्थयात्रियों को सुकून मिला है.

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि चारों धाम यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ तथा बद्रीनाथ के विभिन्न मार्गों पर जगह-जगह आये मलबे को देर रात तक साफ कर लिया गया तथा मार्गों को बड़े और छोटे वाहनों के लिये खोल दिया गया. पिछले कुछ दिनों से परेशानी का सामना कर रहे हजारों यात्रियों को आज सुकून मिला है.

दूसरी ओर राज्य में वर्षा के चलते के रेड अलर्ट घोषित कर आपदा राहत से संबधित कर्मचारियों को अवकाश लेने से मना किया जा चुका है. छुट्टी पर गये कर्मचारियों को वापस बुला लिया गया है. सूत्रों के अनुसार वर्षा के कारण चार धाम यात्रा, मानसरोवर यात्रा तथा दुर्गम क्षेत्रों में भूस्खलन की संभावनाओं के चलते पूरे राज्य में रेड अलर्ट घोषित किया गया है.

सूत्रों के अनुसार आपदा प्रभावित क्षेत्रों में जिला प्रशासन, चिकित्सा, बिजली, पेयजल, पुलिस, तथा लोक निर्माण विभाग के कर्मचारियों की छुट्टियों पर रोक जारी है. गढ़वाल मंडल में स्थित चारों धाम दिन में खुले रहे. राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में वर्षा के चलते अब तक दो महिलाओं सहित 11 व्यक्तियों की मौत हो चुकी है और करीब 50 घायल हुये हैं. सूत्रों के अनुसार सर्वोच्च तीर्थ बद्रीनाथ को जाने वाले मार्ग पर कर्णप्रयाग के पास आये मलबे को हटा लिया गया जिससे वाहनों को आवागमन जारी हो गया.

सूत्रों के अनुसार द्वादश शिवलिंगों में सबसे ऊंचाई पर स्थित केदारनाथ जाने वाले मुख्य मार्ग को सोमवार को ही खोला जा चुका था. सूत्रों ने बताया कि ऋषिकेश गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग पर गंगनानी के पास सोमवार को वर्षा के चलते आये मलबे को भी हटा लिया गया तथा छोटे और बड़े वाहनों के लिये मार्ग को खोल दिया गया है.

सूत्रों ने बताया कि अल्मोड़ा जिले के मुख्य अल्मोड़ा-पिथौरागढ़, नैनीताल अल्मोड़ा तथा नैनीताल पिथौरागढ़ मार्गों पर आये मलबे को साफ कर दिया गया है और मार्ग को वाहनों के लिये खोल दिया गया है. राज्य में मुख्यमार्गों के अतिरिक्त करीब 45 की संख्या में अन्य संपर्क मार्गों पर जगह जगह मलबा आया हुआ है जिससे उन मार्गों को अस्थायी रूप से बंद करना पड़ा है. इसके चलते उस मार्ग पर जाने वाले यात्रियों को परेशानी उठानी पड़ रही है. बंद पड़े मार्गों पर मलबा साफ कराने के लिये युद्धस्तर पर कार्यवाही की जा रही है.

जिला प्रशासन को स्पष्ट निर्देश दिया गया है कि मलबा जल्द से जल्द साफ कर मार्ग आवागमन के लिये खोल दिया जाये.

सूत्रों ने बताया कि राजधानी देहरादून में कई मुहल्लों में भी पानी भरा रहा जिससे लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा. कुछ इलाकों के निचले हिस्सों में पानी आ जाने से लोग ऊपरी हिस्से में रह रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay