एडवांस्ड सर्च

सोने के सिक्के मिलने की आस में खोद डाला पूरा गांव

मालपुरा उपखंड के जानकीपुरा गांव में दबेड़िया की नाडी (छोटा तालाब) के पास रात को भी टॉर्च की रोशनी में लोग मिट्टी खोदते देखे जा सकते हैं. किसी के हाथ सोने का सिक्का तो लगा नहीं लेकिन गांव में बड़े-बड़े खड्डे जरूर हो गए हैं. गुरुवार से ही गांव में ये माहौल है.

Advertisement
शरत कुमार [Edited By: खुशदीप सहगल]टोंक, 14 October 2016
सोने के सिक्के मिलने की आस में खोद डाला पूरा गांव लोगों में मारपिटाई भी

राजस्थान के टोंक जिले के एक गांव में इन दिनों गजब नजारा है. यहां पूरा का पूरा गांव मिट्टी खोदने में लगा है. इस उम्मीद के साथ कि उनके हाथ प्राचीन सोने के सिक्के लग जाएं. आस-पास के गांवों के लोग भी सोने के सिक्कों से अपनी किस्मत बदलने की आस में यहां पहुंच रहे हैं. पुलिस ने लोगों को खदेड़ा भी लेकिन लोग फिर आ जुटते हैं.

मालपुरा उपखंड के जानकीपुरा गांव में दबेड़िया की नाडी (छोटा तालाब) के पास रात को भी टॉर्च की रोशनी में लोग मिट्टी खोदते देखे जा सकते हैं. किसी के हाथ सोने का सिक्का तो लगा नहीं लेकिन गांव में बड़े-बड़े खड्डे जरूर हो गए हैं. गुरुवार से ही गांव में ये माहौल है.

जंगल की आग की तरह फैली सोने के सिक्के मिलने की बात
सबसे पहले ये चर्चा तब फैली जब सोशल मीडिया पर अपलोड हुई फोटो में सोने के सिक्के के साथ कुछ युवकों को देखा गया. ये फोटो वायरल हो गया. साथ ही ये बात भी फैल गई कि मिट्टी खोदने पर कथित तौर पर 75 से 100 सोने के सिक्के मिले हैं. एक दूसरे की सुना-सुनी फिर तो क्या महिलाएं, क्या पुरुष और क्या बच्चे हर कोई गांव की मिट्टी खोदने में लग गया. देखते ही देखते यहां मेले जैसा माहौल दिखाई देने लगा.

मेले जैसे माहौल में मार-पिटाई की भी नौबत
कुछ लोग तो मिट्टी खोद कर ट्रॉलियों में भरकर ले जाने लगे. उन्हें रोका गया तो मार-पीट की भी नौबत आ गई. दिलचस्प बात ये है कि सोने के सिक्के किस के हाथ लगे, इस बारे में किसी को कोई जानकारी नहीं है.

एसडीएम को जांच के आदेश
खबर के फैलने के बाद पुलिस और प्रशासन के अधिकारी भी मौके पर पहुंचे. टोंक के एडीएम लोकेश कुमार गौतम के मुताबिक एसडीएम (मालपुरा) सुखराम खोखर को मामले की जांच के निर्देश दिए गए हैं.

जमीन के 3 मीटर नीचे जो भी चीज वो सरकार की संपत्ति
एडीएम गौतम ने बताया कि सोने के सिक्के के फोटो के अलावा और कोई पुख्ता जानकारी नहीं मिली है. अगर जांच में सोने के सिक्के मिलने की बात सही साबित होती है तो उन्हें बरामद कर सरकारी खजाने में जमा कराया जाएगा. गौतम ने ये भी बताया कि जमीन के तीन मीटर नीचे कोई भी चीज मिलती है तो वो सरकार की संपत्ति होती है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay