एडवांस्ड सर्च

राजस्थान के स्कूलों में पढ़ाई जाएंगी सरहद पर शहीद होने वालों की वीर गाथाएं

सूबे के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने बताया कि राज्य की पाठ्य पुस्तकों की सबसे बड़ी कमी थी कि देश की सरहद की रक्षा करने वाले शहीदों के बारे में एक भी चैप्टर नहीं पढ़ाया नहीं जा रहा था.

Advertisement
aajtak.in
शरत कुमार जयपुर, 06 July 2020
राजस्थान के स्कूलों में पढ़ाई जाएंगी सरहद पर शहीद होने वालों की वीर गाथाएं सांकेतिक तस्वीर

  • स्वतंत्रता आंदोलन एवं शौर्य परंपरा पुस्तक में शहीदों की गाथा
  • शिक्षा मंत्री बोले- पहली बार 24 से अधिक शहीदों के पाठ शामिल

देश की सरहदों की रक्षा के लिए प्राणों की आहुति देने वाले अमर शहीदों की गाथा अब राजस्थान के छात्रों को स्कूली पाठ्यक्रम में पढ़ाई जाएगी. कक्षा नौवीं की राजस्थान की स्वतंत्रता आंदोलन एवं शौर्य परंपरा पुस्तक में साल 1948 से लेकर साल 2019 तक शहीद हुए वीरों की गाथा को शामिल किया गया है, जिसमें पुलवामा हमले के शहीद भी शामिल हैं.

पाठ्यक्रम समीक्षा समिति का दावा है कि संभवतः राजस्थान पहला राज्य है, जिसने प्रदेश के अमर शहीदों को पाठ्य पुस्तक में शामिल किया है. सूबे के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने बताया कि राज्य की पाठ्य पुस्तकों की सबसे बड़ी कमी थी कि देश की सरहद की रक्षा करने वाले शहीदों के बारे में एक भी चैप्टर नहीं पढ़ाया नहीं जा रहा था. पहली बार किताबों में प्रदेश के 24 से अधिक शहीदों के पाठ शामिल किए गए हैं, जिसमें पुलवामा के शहीदों की शौर्य गाथा भी है और उसी के साथ कवि प्रदीप की कविता भी शामिल की गई है.

इसे भी पढ़ेंः पुलवामा शहीद की पत्नी ने कांग्रेस विधायक भरत सिंह पर लगाया ये आरोप

राजस्थान के शहीद परिवारों की मांग पर कवि प्रदीप की कविता को इस पुस्तक में शामिल किया गया है. इस पुस्तक में पुलवामा हमले के शहीदों के पाठ भी शामिल किए गए हैं. पुलवामा आत्मघाती हमले में कोटा के हेमराज मीणा, जयपुर के रोहिताश लांबा, भरतपुर के जीतराम, राजसमंद के नारायण गुर्जर और धौलपुर के भागीरथ शहीद हो गए थे.

पाठ्यक्रम में शहीदों के साथ पदक विजेताओं की कहानियों को भी पुस्तक में शामिल किया गया है. परमवीर चक्र, महावीर चक्र, अशोक चक्र, कीर्ति चक्र, शौर्य चक्र, वीर चक्र, सेना मेडल और विशेष सेना मेडल हासिल करने वाले सैनिकों के साथ शहीदों के पाठ भी शामिल हैं. इनमें झुंझुनू के परमवीर चक्र विजेता मेजर पीरू सिंह शेखावत, जोधपुर निवासी शहीद मेजर शैतान सिंह और सीकर जिले के सूबेदार चुनाराम फगेड़िया का नाम शामिल है.

इसे भी पढ़ेंः चीन से तनाव, सैंड आर्टिस्ट ने रेत पर उकेरी कलाकृति, ड्रैगन पर झपट रहा शेर

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay