एडवांस्ड सर्च

गहलोत सरकार की क्रैश लैंडिंग पर अड़े पायलट, समर्थकों संग आया पहला वीडियो

आजतक से सचिन पायलट ने कहा कि कांग्रेस से बातचीत की चर्चाएं बेबुनियाद हैं. हमारी किसी भी कांग्रेस नेता से बात नहीं हुई है. हम कांग्रेस के किसी नेता के टच में नहीं हैं.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in जयपुर, 14 July 2020
गहलोत सरकार की क्रैश लैंडिंग पर अड़े पायलट, समर्थकों संग आया पहला वीडियो rajasthan political crisis

  • पायलट खेमे ने करीब 30 विधायकों के समर्थन का दावा किया
  • आजतक से पायलट बोले- ये हमारे आत्मसम्मान की लड़ाई है

राजस्थान में मचा सियासी घमासान किस ओर करवट लेगा, ये कहना अभी मुश्किल है. तीन दिनों से चल रहे शह और मात के खेल में सचिन पायलट खेमे का पहला वीडियो सामने आया है. बताया जा रहा है कि गहलोत सरकार की क्रैश लैंडिंग पर सचिन पायलट अभी भी आमादा हैं.

पायलट खेमे की ओर से दावा किया जा रहा कि उनके समर्थन में करीब 30 विधायक हैं. साथ ही मंगलवार सुबह 10 बजे होने वाली कांग्रेस की बैठक में भी सचिन पायलट हिस्सा नहीं लेंगे. इस बैठक का न्योता सचिन पायलट के साथ बागी विधायकों को भी दिया गया है.

इस वीडियो के सामने आने से पहले कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने मीडिया से बातचीत में कहा कि पार्टी के दरवाजे खुले हैं और सचिन पायलट का स्वागत है. इस अपील के बाद सवाल उठा कि जब सचिन पायलट ने पार्टी छोड़ी नहीं है तो दरवाजे खोलने की नौबत क्यों आई?

आजतक से सचिन पायलट ने कहा कि कांग्रेस से बातचीत की चर्चाएं बेबुनियाद हैं. हमारी किसी भी कांग्रेस नेता से बात नहीं हुई है. हम कांग्रेस के किसी नेता के टच में नहीं हैं. ये अब हमारे आत्मसम्मान की लड़ाई है. पायलट के बयान से साफ होता है कि वो भी पीछे हटने वाले नहीं हैं.

क्या गड़बड़ा रहा है गहलोत का नंबर गेम?

वहीं, सोमवार दोपहर अशोक गहलोत ने 109 विधायकों के साथ मीडिया परेड कराई, लेकिन पायलट खेमे का वीडियो सामने के आने बाद फिर पेच फंसता दिख रहा है.

बताया जा रहा है कि गहलोत खेमे का नंबर गेम गड़बड़ा रहा है. भले मीडिया के सामने मुख्यमंत्री ने 109 विधायकों के साथ होने का दावा कर दिया हो, लेकिन ऐसी स्थिति बनती नहीं दिख रही है.

पायलट गुट के विधायक दीपेंद्र का दावा- हमारे पास 30 MLA, फ्लोर टेस्ट हो

पायलट समर्थक विधायकों पर पार्टी ले सकती है फैसला

इधर, कांग्रेस के पास भी कोई विकल्प नहीं बचा है और दोनों खेमों के रास्ते भी अलग हो गए हैं. हो सकता है विधायक दल की बैठक में पायलट समर्थकों को लेकर कोई निर्णय भी ले लिया जाए. अगर पायलट की रणनीति से सरकार गिर जाती है तो फिर कौन सरकार बनाएगा? वहीं, बीजेपी नंबर गेम सेट कर मुख्यमंत्री के तौर पर पायलट को आगे करेगी तो वसुंधरा राजे की अनदेखी होगी. ऐसे में पिक्चर अभी साफ नहीं है और गललोत सरकार से संकट भी नहीं टला है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay