एडवांस्ड सर्च

राजस्थान के बैंकों के बाहर लगी लंबी लाइनें, लोगों को झेलनी पड़ रही परेशानी

टोंक रोड स्थित कोटक महिंद्रा बैंक में उन्हीं लोगों के नोट एक्सचेंज हो रहे हैं जिनका एकाउंट है बाकि लोगों को इंतजार करने के लिए कहा जा रहा है. दिन में 12 बजे बैंक मैनेजर का कहना था कि रिजर्व बैंक से अबतक हमारे पास नए करेंसी नहीं पहुंचे हैं.

Advertisement
aajtak.in
शरत कुमार जयपुर, 10 November 2016
राजस्थान के बैंकों के बाहर लगी लंबी लाइनें, लोगों को झेलनी पड़ रही परेशानी बैंकों में है भारी भीड़

जयपुर समेत पूरे राजस्थान में बैंकों के अंदर और बाहर लंबी-लंबी कतारें लगी हुई हैं. कल पूरे दिन की परेशानी के बाद सुबह बैंक खुलते ही लोग अपना आई कार्ड लेकर और फार्म भरकर दो-दो घंटे से लाईन में लगे हैं. सबसे ज्यादा कतारें स्टेट बैंक आफ इंडिया के बाहर लगी हुई है क्योंकि इस बैंक में ज्यादा इंतजाम हैं. कई निजी बैंकों में तो अभी तक पैसे हीं नही पहुंचे हैं.

टोंक रोड स्थित कोटक महिंद्रा बैंक में उन्हीं लोगों के नोट एक्सचेंज हो रहे हैं जिनका एकाउंट है बाकि लोगों को इंतजार करने के लिए कहा जा रहा है. दिन में 12 बजे बैंक मैनेजर का कहना था कि रिजर्व बैंक से अबतक हमारे पास नए करेंसी नहीं पहुंचे हैं. हम लोग इंतजार कर रहे हैं कैश आने के बाद ही नोट एक्सचेंज करेंगे.

दूसरी तरफ पिछले दो घंटे से स्टेट बैंक के बाहर लाईन में लगे बीकानेर के मुन्ना लाल का कहना है कि बेटा कल से अस्पताल में है. खून और दवाईयां लेनी है इसलिए बदलने आए हैं. दो घंटे से लाईन में लगे हैं अभी भी नंबर नही आया है. पहले सुबह में हीं अस्पताल के बाहर बैंक फ बड़ौदा में लाईन में लगे थे जहां नंबर आते हीं मशीन हीं खराब हो गई तो बैंक बंद कर दिया तब यहां आए हैं. 75 साल के सोनाराम बुजुर्ग हैं जिन्हें लाईन में खड़े होने में बेहद तकलीफ हो रही है, कह रहे हैं कि चार हजार रुपए के लिए आए हैं और आधे घंटे से खड़े हैं क्या करें. कोई सुनता हीं नही.

घर में शादी, हो रही है परेशानी
इसी तरह से प्रवीण के घर में शादी है और रोजाना दस हजार का खर्चा घर आए रिश्तेदारों की वजह से है इसलिए पांच लोगों को आईडी कार्ड लेकर साथ में लाया है ताकि चार-चार हजार कर कम से कम 20 हजार रुपए तो एक्सचेंज हो जाए. स्कूल टीचर सुनीता कह रही हैं कि एक घंटे से लाईन में लगी हूं कल तो बच्चे का गुल्लक तोड़ना पड़ गया था बेटा रोने लगा तो सबको मिलकर समझाना पड़ा. दौसा के रामतरन गुर्जर का कहना है कि इस तरह की लाईन तो सालों पहलें कैरोसिन तेल लेने के लिए गांव में देखा करता था.

ज्यादातर लोगों को बैंकों से शिकायत है कि कहीं कोई एक्सट्रा काउंटर का इंतजाम नहीं किया है. महिलाओं और बुजुर्गों के लिए घंटो लाईन में खड़े रहना संभव नही है इनके लिए अलग से कतारें लगनी चाहिए. दिन में तेज धूप हो रही है लेकिन बैंकवाले बाहर खड़े करवा दे रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay