एडवांस्ड सर्च

झोपड़ी में चलता है यह स्कूल, सर्दी में आग जलाने के लिए लकड़ी घर से लाते हैं बच्चे

पिछले पांच साल से ऐसा सरकारी स्कूल चल रहा है, जिसमें भवन के नाम पर एक झोपड़ी है. इसी झोपड़ी में एक टीचर पढ़ाने आता है. यही एक ही टीचर सर्वेसर्वा है यानी प्राचार्य से चपरासी तक.

Advertisement
aajtak.in
शरत कुमार जयपुर, 14 December 2017
झोपड़ी में चलता है यह स्कूल, सर्दी में आग जलाने के लिए लकड़ी घर से लाते हैं बच्चे झोपड़ी में चलने वाला स्कूल

राजस्थान के पाली जिले के रवारची के जीझाड़ी गांव में पिछले पांच साल से ऐसा सरकारी स्कूल चल रहा है, जिसमें भवन के नाम पर एक झोपड़ी है. इसी झोपड़ी में एक टीचर पढ़ाने आता है. यही एक ही टीचर सर्वेसर्वा है यानी प्राचार्य से चपरासी तक.

स्कूल में कोई बोर्ड तक लगाने की जगह नहीं है. स्कुल का नाम लिखने के लिए सरकारी टॉयलेट का सहारा लिया गया है, जो बिना गेट का बना है. उसी पर स्कूल का नाम लिखा है, जैसे टॉयलेट में ही स्कूल चलता है. बच्चों के बैठने की दरी- पट्टी, स्कूल का सामान रखने के लिए, लोहे के बॉक्स का इंतजाम स्थानीय दानदाता से करवाया गया है.

न बिजली है, न पानी है, न ब्लैक बोर्ड है और न स्कूल का सामान रखने की जगह है. बरसात में तो सुरक्षित जगह देखनी पड़ती है और वर्तमान में तेज सर्दी में बच्चों को एक गोल घेरा बनाकर उस के बीच में आग लगाई जाती है. बच्चे सर्दी में अलाव तापते रहते और गुरुजी पढ़ाते रहते हैं और आग लगाने के लिए सूखी लकड़ी भी बच्चे ही लाते हैं.

मिड-डे मिल का भी अजीब हाल है. जगह नहीं है तो एक ग्रामीण के घर पर मिड-डे मिल बनता है और उसी के घर जाकर बच्चे मिड-डे मिल खाते हैं. गांव वाले के घर में सर्दी में जाकर जमीन पर बैठकर मिड डे मिल खाते हैं.

हालांकि, कुछ साल पहले बच्चों के लिए पानी का हैंडपंप लगाया गया था, मगर पानी इतना खारा है कि टीचर सुबह अपने घर से कैंपर लेकर आता है और उसी पानी को बच्चों को पिलाता है.

स्कूल के एक मात्र टीचर कानाराम का कहना है कि उच्च अधिकारियों को इस बारे में पता है, लेकिन हम तो अपनी जिम्मेदारी इस परस्थितियों में भी निभा रहे हैं. पंचायत समिति की सदस्य इंदिरा नायक का कहना है कि बच्चों को इस परिस्थिति में पढ़ना मजबूरी है. मगर कोई कुछ भी नही कर रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay