एडवांस्ड सर्च

राजस्थान: पीपल्दा में क्षेत्रीय दल बिगाड़ते हैं राष्ट्रीय दलों का खेल!

राजस्थान में विधानसभा की कुल 200 सीटें हैं, साल 2013 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी 163 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी. जबकि कांग्रेस 21 सीटों पर सिमट गई. बसपा को 3, NPP को 4, NUZP को 2 सीटें मिली थीं. जबकि 7 सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवार जीते थे.

Advertisement
विवेक पाठकनई दिल्ली, 14 September 2018
राजस्थान: पीपल्दा में क्षेत्रीय दल बिगाड़ते हैं राष्ट्रीय दलों का खेल! कांग्रेस संकल्प रैली बस

राजस्थान में चुनावी बिगुल बज चुका है. मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की गौरव यात्रा के सहारे जनता के बीच सरकार के कामकाज का ब्योरा दे रही हैं. वहीं कांग्रेस भी राजस्थान सरकार की कमियों को उजागर करने के लिए संकल्प रैली कर रही है.

हाड़ौती क्षेत्र की बात करें तो ये राजस्थान का वो इलाका है, जो सत्तारुढ़ दल भाजपा के लिए सियासी नजरिये से हमेशा फायदेमंद रहा है. एक-दो चुनाव को छोड़कर हाड़ौती में भाजपा का हमेशा ही डंका बजता आया है. क्योकि इस क्षेत्र का कोटा, बारां, बूंदी और झालावाड़ जिला पहले संघ का और फिर जनसंघ का मजबूत गढ़ रहा है. 2013 के विधानसभा चुनावों में हाड़ौती के चारों जिलों की 17 सीटों में से कांग्रेस को महज एक सीट पर संतोष करना पड़ा था. ऐसे में भाजपा, संघ और सीएम के निर्वाचन क्षेत्र के इस मजबूत गढ़ को भेदने के लिए कांग्रेस ने पूरे चार साल यहां पर विशेष नजर रखी.

हाड़ौती क्षेत्र के कोटा जिले की बात करें तो यह जिला एजुकेशन हब के नाम से पूरे भारत में मशहूर है. उच्च शिक्षा में कोचिंग की संस्थाने एक उद्योग की तरह कोटा में विकसित हुई हैं जिसे यहां की अर्थव्यवस्था की धुरी माना जाता है. इसके साथ ही हाड़ौती के प्रमुख कोटा स्टोन उद्योग का भी केंद्र है.

कोटा जिले में 6 विधानसभा सीट- पिपल्दा, सांगोद, कोटा उत्तर, कोटा दक्षिण, लाडपुरा और रामगंज मंडी पर भारतीय जनता पार्टी का कब्जा है. पीपल्दा विधानसभा क्षेत्र संख्या 187 की बात करें तो यह सामान्य सीट है. 2011 की जनगणना के अनुसार पीपल्दा की जनसंख्या 269698 है, जो पूरी तरह से ग्रामीण क्षेत्र है. वहीं कुल आबादी का 24.07 फीसदी अनुसूचित जाति और 20.78 फीसदी अनुसूचित जनजाति हैं.

2017 की वोटर लिस्ट के मुताबिक कुल मतदाताओं की संख्या 182728 है और 235 पोलिंग बूथ हैं. 2013 विधानसभा चुनाव में पीपल्दा सीट पर 73.31 फीसदी मतदान हुआ था, वहीं 2014 लोकसभा चुनाव में 60.46 फीसदी मतदान हुआ था.

2013 विधानसभा चुनाव का परिणाम

साल 2013 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के विद्याशंकर नंदवाना ने नेशनल पिपुल्स पार्टी (NPP) के राम गोपाल बैरवा को 7749 मतों से पराजित किया. वहीं कांग्रेस विधायक प्रेमचंद नागर 21146 वोटों के साथ तीसरे स्थान पर रहे थें. बीजेपी के विद्याशंकर नंदवाना को 47089 और NPP के राम गोपाल बैरवा को 39340 वोट मिले थें. बता दें कि रामगोपाल बैरवा दो बार कांग्रेस से पीपल्दा से विधायक रह चुके हैं. लेकिन 2013 में NPP के टिकट पर  चुनाव लड़कर उन्होंने कांग्रेस का खेल खराब कर दिया.

2008 विधानसभा चुनाव का परिणाम

साल 2008 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के प्रेमचंद नागर ने बीजेपी के मानवेंद्र सिंह को 10873 वोट से शिकस्त दी. वहीं बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के हरगोविंद 20190 वोट पाकर तीसरे स्थान पर रहें. कांग्रेस के प्रेमचंद नागर को 38709 और बीजेपी के मानवेंद्र सिंह को 27836 वोट मिले थें.     

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay