एडवांस्ड सर्च

राफेल पर यूथ कांग्रेस का प्रदर्शन, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

राजस्थान के जयपुर में राफेल डील को लेकर यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने जमकर प्रदर्शन किया. यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक चांदना की अगुवाई में विधानसभा कुच कर रहे हजारों कार्यकर्ताओं को पुलिस ने बीच में ही रोक लिया. इसके बाद हालात को काबू करने के लिए पुलिस ने वाटर कैनन का इस्तेमाल किया और लाठियां भांजी.

Advertisement
शरत कुमार [Edited By: राम कृष्ण]जयपुर, 06 September 2018
राफेल पर यूथ कांग्रेस का प्रदर्शन, पुलिस ने किया लाठीचार्ज जयपुर में यूथ कांग्रेस का जोरदार प्रदर्शन

राफेल डील को लेकर कांग्रेस पार्टी ने मोदी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन तेज कर दिया है. गुरुवार को राजस्थान के जयपुर में राफेल डील को लेकर यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने जमकर प्रदर्शन किया. जब यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक चांदना की अगुवाई में हजारों कार्यकर्ता मोदी सरकार के राफेल डील के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए विधानसभा कूच कर रहे थे, तभी पुलिस ने उनको रोक दिया.

इसके बाद यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और पुलिस में झड़प हो गई. हालात को काबू करने के लिए पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा. पुलिस ने वाटर कैनन का इस्तेमाल किया और लाठी भांजी. बताया जा रहा है कि राज्यभर से जयपुर आए यूथ कांग्रेस के कार्यकर्ता विधानसभा कूच करना चाहते थे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला फूंककर विरोध जताना चाहते थे.

जब पुलिस ने इन कार्यकर्ताओं को रोका, तो ये नहीं माने और आगे जाने की जिद करने लगे. इस पर पुलिस ने वाटर कैनन से पानी की बौछारें की और फिर लाठीचार्ज कर दिया. यूथ कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक चांदना ने कहा कि वो विधानसभा के बाहर प्रदर्शन करना चाहते थे, लेकिन राज्य सरकार ने इसकी इजाजत नहीं दी.

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने नरेंद्र मोदी के पुतले को भी नहीं जलाने दिया. य़ूथ कांग्रेस ने आरोप लगाया कि पुलिस की लाठी से 6 कार्यकर्ता घायल हुए हैं. युवक कांग्रेस ने ऐलान किया कि ब्लॉक स्तर पर राफेल डील के मुद्दे पर हर सप्ताह प्रदर्शन किया जाएगा और BJP के इस घोटाले के बारे में जनता को बताया जाएगा.

चांदना ने कहा कि विधानसभा कूच से पहले यूथ कांग्रेस ने जयपुर के 22 गोदाम में सभा की और राफेल के मुद्दे पर राज्य भर में आंदोलन छेड़ने का ऐलान किया. वहीं, पुलिस का कहना है कि विधानसभा के आसपास धारा 144 लागू है. हमने इनसे कहा था कि ज्ञापन देना चाहते हो, तो पांच लोग जा सकते हो, लेकिन ये नहीं माने. लिहाजा इनको रोकने के लिए बल प्रयोग करना पड़ा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay