एडवांस्ड सर्च

पंजाब: नाभा जेल में डेरा समर्थक की हत्या पर सियासत तेज, अकाली दल ने की CBI जांच की मांग

पंजाब के बरगाड़ी में धार्मिक ग्रंथ की बेअदबी मामले के मुख्य आरोपी महेंद्रपाल सिंह उर्फ बिट्टू (उम्र 49 वर्ष) की नाभा जेल में दो कैदियों ने शनिवार को कथित तौर पर हत्या कर दी. अकाली दल की मांग है कि इस मामले की जांच की जिम्मेदारी सीबीआई को सौंपी जाए.

Advertisement
aajtak.in
मनजीत सहगल नई दिल्ली, 26 June 2019
पंजाब: नाभा जेल में डेरा समर्थक की हत्या पर सियासत तेज, अकाली दल ने की CBI जांच की मांग फाइल फोटो- सुखबीर सिंह बादल

पंजाब के नाभा की हाई सिक्योरिटी जेल में कैद डेरा सच्चा सौदा समर्थक महेंद्र पाल सिंह बिट्टू की हत्या के मामले पर सियासत बढ़ती जा रही है. भारतीय जनता पार्टी(बीजेपी) की सहयोगी शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने मांग की है कि महेंद्र पाल बिट्टू की हत्या के मामले की केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो(सीबीआई) जांच करे.

सुखबीर सिंह बादल ने आज तक से हुई बातचीत में कहा, 'डेरा समर्थक की हत्या साजिश के तहत की गई है. महेंद्र सिंह बिट्टू धार्मिक ग्रंथ की बेअदबी मामले के मुख्य आरोपी है. पंजाब सरकार उसकी मौत के लिए जिम्मेदार है. हम चाहते हैं कि इस मामले की जांच के लिए उच्च स्तरीय समति का गठन किया जाए. इस मामले की जांच के लिए चाहे पीठासीन जज, सीबीआई या केंद्र सरकार की ओर से कोई एजेंसी आए, मामले की जांच पूरी होनी चाहिए.'

सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम(एसआईटी) केवल खानापूर्ति है. यह संस्था वही करती है जो पंजाब सरकार चाहती है.

सुखबीर सिंह बादल ने सवाल उठाने के लहजे में कहा कि क्यों महेंद्र पाल सिंह बिट्टू को फरीदकोट जेल से नाभा जेल शिफ्ट किया गया, जहां खतरनाक अपराधी रखे जाते हैं. केवल उसका ही ट्रांसफर किया गया जिसके वजह से कई सवाल उठ रहे हैं. बादल ने यह भी मांग की है कि पंजाब के जेल मंत्री सुखजिंदर रंधावा भी अपने पद से हटाए जाएं.

पंजाब के बरगाड़ी में धार्मिक ग्रंथ की बेअदबी मामले के मुख्य आरोपी महेंद्रपाल सिंह उर्फ बिट्टू (उम्र 49 वर्ष) की नाभा जेल में दो कैदियों ने शनिवार को कथित तौर पर हत्या कर दी. धार्मिक ग्रंथ के अपमान के आरोप में बंद कैदी की हत्या के मामले में 3 जेलकर्मियों पर गाज गिरी है. जिसमें असिस्टेंट जेल सुपरिटेंडेंट और दो जेल वॉर्डनों को सस्पेंड किया गया है, वहीं जेल सुप्रिडेंट को भी सस्पेंड करने के आदेश दिए गए हैं.

फरीदकोट निवासी महेंद्रपाल सिंह उर्फ बिट्टू पंजाब के बरगाड़ी में 2015 में हुए गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के मामले में मुख्य आरोपी था और नाभा जेल में बंद था. वह डेरा सच्चा सौदा समर्थक था और डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम द्वारा बनाई गई 45 सदस्य कमेटी का सदस्य था.

गौरतलब है कि जेल में झगड़े के दौरान महिंद्रपाल सिंह पर जेल में बंद दो अन्य कैदियों ने हमला किया था जिसमें बिट्टू गंभीर रूप से घायल हो गया था. घायल अवस्था में जेल प्रशासन ने महेंद्रपाल को सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया था जहां उसकी मौत हो गई.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay