एडवांस्ड सर्च

पंजाब AAP में फिर से बगावती तेवर, भगवंत मान ने दी खैरा को चुनाव लड़ने की चुनौती

आम आदमी पार्टी की पंजाब यूनिट में विवाद खत्म होता नहीं दिख रहा. सांसद भगवंत मान ने फिर से बगावती तेवर अपनाने वाले सुखपाल खैरा को फिर से चुनाव लड़ने का चैलेंज दिया है.

Advertisement
सतेंदर चौहान [Edited by: सुरेंद्र कुमार वर्मा]चंडीगढ़, 07 August 2018
पंजाब AAP में फिर से बगावती तेवर, भगवंत मान ने दी खैरा को चुनाव लड़ने की चुनौती भगवंत मान (फाइल)

पंजाब की आम आदमी पार्टी में शुरुआत से लेकर अब तक जो चीज नहीं बदली, वह है आपसी कलह और कलह चाहे पार्टी की स्थापना को लेकर हो, टिकटों के बंटवारे पर हो, नेता विपक्ष का चुनाव हो, पार्टी कन्वीनर का मुद्दा हो, पार्टी में आज तक इन तमाम मुद्दों पर एक राय बन ही नहीं सकी है.

शुरू से ही पार्टी दो धड़ों में बंटी हुई है, एक धड़ा केजरीवाल और मनीष सिसोदिया के नाम की वकालत करता है तो दूसरा धड़ा पंजाब और पंजाबी नेताओं को ज्यादा से ज्यादा पावर देने की बात करता है. सुखपाल खैरा को नेता विपक्ष पद से हटाए जाने के बाद लग ऐसा रहा है कि पार्टी में अब सुलह होना नामुमकिन है और पार्टी में टूट होना लाजमी है.

सुखपाल खैरा के पास 7 विधायकों का समर्थन है तो केजरीवाल ग्रुप में 13 विधायक हैं. विधायकों की खींचातानी अभी तक भगवंत मान का रोल पूरी तरीके से शांतिपूर्वक था, इसकी वजह यह थी कि भगवंत मान दिल्ली के गंगाराम हॉस्पिटल में अपनी किडनी का इलाज करा रहे थे और आज जैसे ही भगवंत मान चंडीगढ़ पहुंचे तो उन्होंने ना सिर्फ सुखपाल खैरा गुट के विधायकों पर जमकर निशाना साधा बल्कि कई सारे सवाल खड़े करते हुए इनको चुनौती भी दे डाली.

ऐसा रहा है कि भगवंत मान अब एक्टिव रोल में आ गए हैं और केजरीवाल की तरफ से उनको थपकी मिली है और आने वाले दिनों में आम आदमी पार्टी की पंजाब ईकाई में 18 नेताओं की छुट्टी होना लाजमी है.

भगवंत मान ने सीधे नाम लेकर सुखपाल खैरा और कमर संधू दोनों विधायकों को कई सवालों के साथ चुनौती दी खैरा पर निशाना साधते हुए कहा कि खैरा का किसी भी पार्टी में ठहरने का औसत टाइम 2 महीने का है और आम आदमी पार्टी में वह कई महीने लगा चुके हैं लिहाजा अब उनका जाना तय है.

साथ ही सांसद मान ने खेरा से पूछा कि वह बताएं कि जब सोनिया गांधी के पैरों में हाथ लगाते थे और आदेश दिल्ली से आते थे तब उन्होंने कितनी बार वॉलंटियर से पूछा कि कितनी बार कन्वेंशन की जब उनको अकाली दल और कांग्रेस छोड़नी पड़ी तब उनकी नियति क्या थी जब उनको केजरीवाल ने नेता विपक्ष बनाया था तब आम आदमी पार्टी डेमोक्रेटिक थी. आज जब उनको नेता विपक्ष के पद से हटा दिया गया तो अब आम आदमी पार्टी डिक्टेटर हो गई.

उन्होंने खैरा को सीधे चुनौती दी कि उनके अंदर अगर दम है तो पहले विधायक पद से इस्तीफा दें और उसके बाद अपने हलके से दोबारा चुनाव लड़ कर दिखाएं. फिर उनको बता देंगे कि आखिर उनमें आखिर कितना दम है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay