एडवांस्ड सर्च

पंजाब: AAP के विधायक हुए बागी, बोले-दिल्ली से लिए गए फैसले नहीं मंजूर

आम आदमी पार्टी ने पंजाब विधानसभा में नेता विपक्ष के पद से सुखपाल सिंह खैरा को हटा दिया है. पार्टी ने घोषणा की है कि दिरबा के विधायक हरपाल सिंह चीमा अब खैरा का स्थान लेंगे.

Advertisement
सतेंदर चौहान [Edited by: मोनिका गुप्ता]चंडीगढ़, 27 July 2018
पंजाब: AAP के विधायक हुए बागी, बोले-दिल्ली से लिए गए फैसले नहीं मंजूर सुखपाल खैरा

पंजाब में सुखपाल खैरा को नेता विपक्ष के पद से हटाना आम आदमी पार्टी के लिए गले की फांस बन गया है. दिल्ली में नए नेता विपक्ष ने केजरीवाल से मुलाकात की तो वहीं चंडीगढ़ में सुखपाल खैहरा ने अपने साथ 9 विधायकों को लेकर आम आदमी पार्टी को चुनौती दे डाली.

साथ ही सुखपाल खैरा के समर्थन में आए विधायकों ने कहा कि जिस तरीके से बिना विधायकों को बताए सुखपाल खैरा को हटाने का फैसला दिल्ली हाईकमान ने लिया है. वह एक तरफ जहां गलत है तो दूसरी तरफ बिल्कुल मंजूर नहीं है.

सुखपाल खैरा के समर्थक विधायकों ने यह भी दावा कर दिया कि आने वाली 2 तारीख को बठिंडा में एक आम आदमी पार्टी का कन्वेंशन किया जाएगा. इसमें पूरे पंजाब के वॉलंटियर्स को बुलाया जाएगा और उनके साथ भी रायशुमारी की जाएगी.

'आप' विधायक  सुखपाल खैरा ने कहा कि 2 तारीख को होने वाली इस कन्वेंशन में ना तो दिल्ली के नेताओं को बुलाया गया है. और ना ही उनसे किसी तरह की अनुमति ली गई है. जाहिर सी बात है सुखपाल खैरा गुट के विधायक जहां एक तरफ शक्ति प्रदर्शन करेंगे तो वहीं दूसरी तरफ कोई बड़ी घोषणा भी इस मंच से की जा सकती है.

वहीं सुखपाल ने अपनी पार्टी को कोसते हुए कहा कि उन्हें पंजाब पंजाबीयत और नशों के खिलाफ और पंजाब के हित में लगातार काम करने की सजा एक तरीके से दी गई है. अगर ऐसे सो ओहदे भी उन्हें दरकिनार करने पड़े तब भी वह इसी तरीके से काम में लगे रहेंगे. साथ ही सुखपाल खैहरा ने आम आदमी पार्टी के अपने ही नेताओं और विधायकों पर भी आरोप लगाए कि लगातार एक लंबे समय से उनके खिलाफ साजिश है.

वहीं पंजाब के अन्य दलों ने चटखारे लेने शुरू कर दिए हैं. अकाली दल के नेता दलजीत चीमा कहते हैं कि यही वह आम आदमी पार्टी है, जो दावा करती थी कि हम हर फैसला अपने वॉलंटियर्स और आम आदमियों से पूछकर किया करेंगे, लेकिन अब हालत ये हो गई है कि नेता विपक्ष का पद अगर तय करना हो तो विधायकों को सिर्फ मैसेज किया जाता है कि दिल्ली में यह फैसला ले लिया गया है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay