एडवांस्ड सर्च

कॉरिडोर खुलने के बाद भी करतारपुर नहीं जा पाएंगे हजारों सिख, ये है वजह

बोर सिंह जी तूतांवाले ने कहा, हमें इस बात की खुशी है कि करतारपुर कॉरिडोर खुल गया है. हम दोनों सरकारों का धन्यवाद करना चाहते हैं, लेकिन एक प्रार्थना है कि जो पासपोर्ट की शर्त लगाई है वह सही नहीं है. क्योंकि एक परिवार में केवल एक-दो सदस्यों के पास ही पासपोर्ट होता है. कॉरिडोर खुलने का असली फायदा तभी मिलेगा जब हमसे पासपोर्ट ना मांगा जाए.

Advertisement
aajtak.in
मनजीत सहगल डेरा बाबा नानक , 10 November 2019
कॉरिडोर खुलने के बाद भी करतारपुर नहीं जा पाएंगे हजारों सिख, ये है वजह करतारपुर कॉरिडोर (फोटो-PTI)

  • पंजाब के ज्यादातर सिख श्रद्धालुओं के पास पासपोर्ट नहीं
  • गरीब श्रद्धालुओं के लिए $20 की फीस जुटाना मुश्किल

पाकिस्तान के करतारपुर स्थित गुरद्वारा दरबार साहिब की ओर खड़े होकर हाथ जोड़कर प्रार्थना कर रहे पंजाब के वो श्रद्धालु हैं, जिनके पास पासपोर्ट नहीं है. दरअसल, पाकिस्तान ने करतारपुर साहिब गुरुद्वारे के दर्शन के लिए पासपोर्ट की शर्त रखी है, जिसकी वजह से हजारों लोग करतारपुर जाने की श्रद्धा पूरी नहीं कर पाएंगे.

ऐसे श्रद्धालुओं के पास कॉरिडोर खुलने के बाद भी डेरा बाबा नानक में खड़े होकर हाथ जोड़कर प्रार्थना करने के अलावा कोई उम्मीद नहीं है. 75 साल की जसवीर कौर पंजाब के उन हजारों सिख श्रद्धालुओं में से एक हैं, जिनके पास पासपोर्ट नहीं है. इसलिए वह यहीं से खड़े होकर दर्शन कर रही हैं.

जसवीर कौर का कहना है कि मेरे पति के पास पासपोर्ट है और वह दो बार करतारपुर साहिब होकर आए हैं, लेकिन अब मैं भी चाहती हूं कि पासपोर्ट बनवा लूं. फिरोजपुर से दर्शन के लिए डेरा बाबा नानक पहुंचे एक अन्य श्रद्धालु बोर सिंह जी तूतांवाले का भी मानना है कि जब तक पासपोर्ट की शर्त लगी है, ज्यादातर लोग करतारपुर साहिब नहीं जा पाएंगे.

पासपोर्ट न मांगा जाए तो होगा कॉरिडोर खुलने का फायदा

बोर सिंह जी तूतांवाले ने कहा, हमें इस बात की खुशी है कि करतारपुर कॉरिडोर खुल गया है. हम दोनों सरकारों का धन्यवाद करना चाहते हैं लेकिन एक प्रार्थना है कि जो पासपोर्ट की शर्त लगाई है वह सही नहीं है. क्योंकि एक परिवार में केवल एक-दो सदस्यों के पास ही पासपोर्ट होता है. कॉरिडोर खुलने का असली फायदा तभी मिलेगा, जब हमसे पासपोर्ट न मांगा जाए. हमारे आधार कार्ड और दूसरे परिचय पत्र के आधार पर ही गुरुद्वारे के दर्शनों की इजाजत मिलनी चाहिए. वहीं कई ऐसे श्रद्धालु भी हैं जो दर्शन करने के अभिलाषी लोगों का खर्चा उठाने के लिए तैयार हैं, लेकिन पासपोर्ट की शर्त आड़े आ रही है.

बैतूल और वलसाड से आए 6 -6 श्रद्धालु

बैतूल से आए 6 श्रद्धालुओं में सुदर्शन सिंह भी शामिल हैं. सुदर्शन सिंह ने कहा कि हम लोग हर दिन अरदास करते थे कि पाकिस्तान में गुरुद्वारे के खुले दर्शन हों. आज हमारा सपना पूरा हो गया है. मैंने प्रण लिया था कि मैं पहले दिन ही करतारपुर के दर्शन करूंगा. मैंने इसके लिए रजिस्ट्रेशन भी करवाया था. आज 10 तारीख को मेरा रजिस्ट्रेशन है, सुबह मैं यहां से जाकर करतारपुर साहिब के दर्शन करूंगा. एक अन्य श्रद्धालु प्रताप सिंह के मुताबिक शेख $20 की फीस तो दे सकते हैं, क्योंकि इसके बदले उन्हें गुरुद्वारे के दर्शन हो पाएंगे.

दूसरे श्रद्धालुओं का खर्च उठाने को तैयार कृपाल सिंह

वलसाड गुजरात से आए 6 श्रद्धालु कृपाल सिंह अपने साथ दूसरे श्रद्धालुओं का खर्च उठाने के लिए तैयार हैं. उनका मानना है कि गरीबों की धार्मिक यात्रा के लिए पैसा जुटा सकते हैं. हालांकि पाकिस्तान ने प्रतिदिन 5000 श्रद्धालुओं को करतारपुर साहिब आने की इजाजत दी है. बावजूद इसके सैकड़ों लोग अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं. करतारपुर साहिब जाने वाले यात्रियों की संख्या इतनी ज्यादा है कि लोगों को कई-कई दिन तक इंतजार करना होगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay