एडवांस्ड सर्च

मुंबई में रेमडेसिवीर की कालाबाजारी, डीसीजीआई ने स्वास्थ्य मंत्रालय को लिखा पत्र

महाराष्ट्र में मुंबई शहर में कोरोना वायरस का संक्रमण सबसे ज्यादा है. कोरोना वायरस की फिलहाल कोई वैक्सीन नहीं है. ऐसे में रेमडेसिवीर दवा कोरोना वायरस के इलाज के लिए मरीजों की दी जा रही है.

Advertisement
aajtak.in
पंकज उपाध्याय मुंबई, 08 July 2020
मुंबई में रेमडेसिवीर की कालाबाजारी, डीसीजीआई ने स्वास्थ्य मंत्रालय को लिखा पत्र सांकेतिक तस्वीर (पीटीआई)

  • देश में कोरोना वायरस का कहर
  • रेमडेसिवीर दवा की हो रही कमी

देश में कोरोना वायरस का कहर लगातार बढ़ता ही जा रहा है. महाराष्ट्र कोरोना वायरस के कारण सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य है. वहीं अब महाराष्ट्र के शहर मुंबई में रेमडेसिवीर दवा की कमी देखी जा रही है. साथ ही रेमडेसिवीर की ब्लैक मार्केटिंग की घटनाएं भी सामने आ रही है. इसको लेकर अब डीसीजीआई ने स्वास्थ्य मंत्रालय को पत्र लिखा है.

महाराष्ट्र में मुंबई शहर में कोरोना वायरस का संक्रमण सबसे ज्यादा है. कोरोना वायरस की फिलहाल कोई वैक्सीन नहीं है. ऐसे में रेमडेसिवीर दवा कोरोना वायरस के इलाज के लिए मरीजों की दी जा रही है. वहीं अब कोरोना वायरस के इलाज में कारगर दवा रेमडेसिवीर की मुंबई में कमी हो रही है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

कोविड-19 संकट ने कई परिवारों के लिए आपातकालीन स्थिति पैदा कर दी है. अस्पतालों में गंभीर कोरोना मरीज वाले परिवार एंटी वायरल दवा रेमडेसिवीर की मांग कर रहे हैं. यह दवा कोविड-19 रोगियों के उपचार के लिए सबसे शक्तिशाली जीवन रक्षक एंटी-वायरल दवा के रूप में ली जा रही है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

एंटी-वायरल दवा के चलते शहर में इस दवा की सबसे ज्यादा मांग देखने को मिल रही है. हालांकि, कुछ असामाजिक तत्वों ने कालाबाजारी और दवा का ज्यादा मूल्य निर्धारण कर संकट में अवसर खोज लिया है. सोशल मीडिया पर भी रेमडेसिवीर दवा की कालाबाजारी को लेकर कई पोस्ट देखे गए हैं.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

इस मामले पर एनसीपी लीडर जितेंद्र अवध ने इंडिया टुडे से कहा, 'रेमडेसिवीर कोरोना प्रोटोकॉल में जीवन रक्षक दवा बन गया है. यह डॉक्टर्स के जरिए व्यापक रूप से गंभीर रोगियों के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है लेकिन इसकी अनुपलब्धता दुख दे रही है. दोस्त और परिवार बाजार में असहाय घुम रहे हैं. यह कहा गया था कि दवा जल्द ही उपलब्ध होगी लेकिन वह स्थिति अभी तक नहीं आई है.'

मुफ्त दवा

वहीं बीएमसी पहले ही घोषित कर चुका है कि वह सभी सार्वजनिक अस्पतालों में मुफ्त में दवा उपलब्ध कराएगा. बीएमसी कमिश्नर इकबाल सिंह चहल ने कहा, 'हर जीवन हमारे लिए महत्वपूर्ण है और हम यह सुनिश्चित करेंगे कि हम मुंबई में हर एक जीवन को बचाने के लिए अपना सब कुछ लगा दें. गरीबों को तकलीफ नहीं होगी. जरूरत के सभी लोगों को मुफ्त में दवा मिलेगी.'

स्वास्थ्य मंत्रालय को पत्र

हालांकि अब इस दवा की ब्लैक मार्केटिंग को लेकर सरकार भी हरकत में आ गई है. ब्लैक मार्केटिंग और ओवर प्राइसिंग की खबरें ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) तक भी पहुंची हैं, जिन्होंने स्वास्थ्य मंत्रालय को पत्र लिखकर कोविड-19 दवा की कालाबाजारी और बिक्री को रोकने के लिए उपाय करने को कहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay