एडवांस्ड सर्च

Advertisement

महाकाल के गर्भगृह में पहली बार घुसा पानी

मध्य प्रदेश में लगातार बारिश ने जनजीवन को बुरी तरह प्रभावित कर दिया है. नदी, नाले उफान पर हैं, आवागमन बाधित हो रहा है, निचली आवासीय बस्तियां जलमग्न हो गई हैं. उज्जैन में महाकाल मंदिर की ज्योतिर्लिग तक पानी पहुंच गया है और भस्म आरती भी पानी में खड़े होकर की गई.
महाकाल के गर्भगृह में पहली बार घुसा पानी गर्भगृह की तस्वीर ट्विटर पर खूब शेयर की जा रही है
aajtak.in [Edited by: हर्षिता]उज्जैन, 22 July 2015

मध्य प्रदेश में लगातार बारिश ने जनजीवन को बुरी तरह प्रभावित कर दिया है. नदी, नाले उफान पर हैं, आवागमन बाधित हो रहा है, निचली आवासीय बस्तियां जलमग्न हो गई हैं. उज्जैन में महाकाल मंदिर की ज्योतिर्लिग तक पानी पहुंच गया है और भस्म आरती भी पानी में खड़े होकर की गई.

महाकाल मंदिर के पुजारी आशीष ने बताया कि शिप्रा नदी का जल रुद्रसागर में आता है और रुद्रसागर का एक द्वार महाकाल मंदिर में खुलता है. संभावना है कि रुद्रसागर का जल महाकाल के गर्भगृह तक पहुंचा है.  वहीं जिला प्रशासन इस बात का परीक्षण करा रहा कि महाकाल के गर्भगृह तक पानी कैस पहुंचा.

टापू में तब्दील उज्जैन
उज्जैन जिले में बारिश से पूरा शहर ही टापू में बदल गया है. शिप्रा नदी का पानी सड़क से लेकर घरों तक में भर गया है. नदी के तट पर रामघाट, नरसिंहघाट और दत्तघाट पर मंदिर भी पानी से डूबे हुए हैं.

लगातार बढ़ता जा रहा है नदियों का जलस्तर
राज्य में बीते तीन दिनों से जारी बारिश कहर बन गई है. प्रदेश की नर्मदा, बेतवा, शिप्रा नदियों का जलस्तर लगातार बढ़ता जा रहा है. इसके चलते कई हिस्सों का सड़क संपर्क टूट गया है. इंदौर में बारिश से कई बस्तियों में पानी भर गया है.

तीन बच्चों समेत 14 लोगों की मौत
राजगढ़ जिले के मलावरमें बरसाती पानी से भरे गड्ढे में खेल रहे तीन बच्चों की डूबने से मौत हो गई. इन बच्चों की उम्र छह से 12 वर्ष बताई जा रही है. सीहोर जिले के खांडाबाड़ गांव के कलियादेव नाले के पानी में सोमवार को 11 लोग बह गए थे. इनमें से नौ के शव मिल चुके हैं, मगर दो अब भी लापता हैं. भोपाल से आया राहत आपदा दल लापता शवों की तलाश में जुटा है. वहीं शाजापुर में नाले में फंसी दो बसों के 125 यात्रियों को सुरक्षित निकाल लिया गया है.

शिवराज सिंह ने की आपदा प्रबंधन के काम की समीक्षा
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंगलवार को प्रदेश में भारी बारिश से बिगड़े हालात की समीक्षा की. मुख्यमंत्री ने प्रदेश में आपदा प्रबंधन के लिए किए गए उपायों की समीक्षा की. उन्होंने कहा, 'भारी बारिश की संभावना वाले इलाकों में पूरी सतर्कता और सावधानी रखें, ताकि किसी आपात स्थिति में त्वरित कार्रवाई की जा सके.

51 जिलों में इमरजेंसी सेंटर बनाए गए
इन इमरजेंसी केंद्रों पर 4,800 लोग लगाए गए हैं. साथ ही 110 बचाव दल भी स्टैंड बाई में रखे गए हैं. इसके अलावा 185 बोट तैयार रखी गई हैं. अभी तक प्रदेश में बाढ़ से प्रभावित 22 घटनाओं में 836 लोगों को बचाया गया है.

सीएम आवास का टेलीफोन नंबर 0755-2540500 जारी
भारी बारिश या बाढ़ से प्रभावित होने की सूचना देने के लिए मुख्यमंत्री निवास का टेलीफोन नंबर 0755-2540500 जारी किया गया है. वहीं सीएम हेल्पलाइन 181 पर भी इसकी सूचना दी जा सकती है.

बताया गया है कि लगातार बारिश से प्रभावित जिलों में विशेष निगरानी रखी जा रही है. उज्जैन शहर की विद्युत आपूर्ति बहाल हो गई है. विदिशा, रायसेन, शाजापुर, सीहोर और देवास जिलों में कुछ स्थान पर पुलिया पर पानी बढ़ने से यातायात प्रभावित हुआ है.

IANS से इनपुट

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay