एडवांस्ड सर्च

मध्‍य प्रदेश चुनाव 2018: मनासा से बीजेपी के अनिरुद्ध मारू को मिली जीत

मनासा विधानसभा सीट पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अनिरुद्ध माधव मारू और कांग्रेस के उमराव सिंह गुर्जर के बीच मुकाबला था.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in भोपाल, 12 December 2018
मध्‍य प्रदेश चुनाव 2018: मनासा से बीजेपी के अनिरुद्ध मारू को मिली जीत फोटो-PTI

मध्य प्रदेश में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव के बाद मतगणना हो चुकी है. मनासा विधानसभा सीट पर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अनिरुद्ध माधव मारू और कांग्रेस के उमराव सिंह गुर्जर के बीच मुकाबला था. मारू ने नजदीकी मुकाबले में 25954 उमराव सिंह को हराया. बता दें कि इस बार यहां के कैलाश चावला का टिकट काट कर बीजेपी ने अनिरुद्ध को मौका दिया था.

मनासा विधानसभा सीट पर हुए पिछले विधानसभा चुनाव में बीजेपी के कैलाश चावला ने जीत हासिल की थी. हालांकि, 2008 के चुनावों में कांग्रेस इस सीट पर कामयाब रही थी. तीन दशकों से राज्य की सत्ता से दूर कांग्रेस इस सीट से जीत हासिल करना चाहेगी, वहीं सत्तारूढ़ बीजेपी इस बार भी कोई मौका गंवाना नहीं चाहेगी.

2013 के मनासा विधानसभा चुनाव

बीजेपी- कैलाश चावला- 55,852(41.8%)

कांग्रेस-विजेंद्र सिंह- 41,824(31.3%)

2008 के मनासा विधानसभा चुनाव

कांग्रेस- विजेंद्र सिंह मालाहेड़ा- 38,632(35.4%)

बीजेपी- अनिरूध रामेश्वर- 33,197(30.5%)    

इस बार की वोटिंग में महिलाओं की भागीदारी बढ़ी

निर्वाचन आयोग के मुताबिक इस बार मध्य प्रदेश में 75.05 फीसदी मतदान हुआ. जबकि 2013 में 72.07 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था. इस बार महिलाओं का मतदान प्रतिशत पिछले चुनाव के मुकाबले करीब 4 फीसदी बढ़कर 74.03 प्रतिशत रहा. 2013 में महिलाओं का मतदान प्रतिशत 70.11 प्रतिशत रहा था.

कितने लोगों ने किया मताधिकार का प्रयोग

निर्वाचन आयोग के मुताबिक 2013 में मध्य प्रदेश में कुल 4,66,36,788 मतदाता थे जिनमें महिला मतदाताओं की संख्या 2,20,64,402 और पुरुष मतदाताओं की संख्या 2,45,71,298 और अन्य वोटर्स 1088 थे. 2013 में 72.07 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया था.

इसके पहले कैसा रहा है वोटिंग का प्रतिशत

मध्‍य प्रदेश में 1990 में स्व. सुंदरलाल पटवा के नेतृत्व में भाजपा मैदान में उतरी और 4.36 फीसदी वोट बढ़ गए. तत्कालीन कांग्रेस की सरकार को हार का सामना करना पड़ा था. इसके बाद 1993 में पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के नेतृत्व में कांग्रेस चुनाव में उतरी तो 6.03 प्रतिशत मतदान बढ़ा और बीजेपी की पटवा सरकार हार गई थी.

वहीं, 1998 में वोटिंग प्रतिशत 60.22 रहा था जो 1993 के बराबर ही था. उस वक्त दिग्विजय सिंह की सरकार बनी. लेकिन 2003 में उमा के नेतृत्व में भाजपा सामने आई और दिग्विजय सिंह की 10 साल की सरकार सत्ता से बाहर हो गई. उस वक्त भी 7.03 प्रतिशत वोट बढ़े थे.

पिछले तीन बार से शिवराज सूबे के मुख्‍यमंत्री

2003 में मुख्‍यमंत्री बनी उमा भारती के इस्तीफे के बाद सूबे के वरिष्ठ नेता बाबूलाल ने 23 अगस्त 2004 को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. बाबूलाल गौर के 29 नवंबर 2005 को पद छोड़ने पर शिवराज ने प्रदेश की बागडोर संभाली और 2008 और 2013 का विधानसभा चुनाव भी जिताने में सफल रहे. पिछले 13 वर्षों से राज्य में सबसे लंबे समय तक मुख्यमंत्री रहने का रिकॉर्ड शिवराज के नाम दर्ज है.

“ To get latest update about Madhya Pradesh elections SMS MP to 52424 from your mobile . Standard  SMS Charges Applicable ”

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay