एडवांस्ड सर्च

जमशेदपुर सीट: टाटानगर के नाम से मशहूर है इलाका, 2014 में जीते बीजेपी के बिद्युत बरन महतो

जमशेदपुर लोकसभा सीट झारखंड की अहम सीटों में से एक है. पूर्वी सिंहभूम जिले का यह हिस्सा टाटानगर के नाम से भी जाना जाता है. यहां से बीजेपी के बिद्युत बरन महतो सांसद हैं.

Advertisement
विशाल कसौधननई दिल्ली, 28 March 2019
जमशेदपुर सीट: टाटानगर के नाम से मशहूर है इलाका, 2014 में जीते बीजेपी के बिद्युत बरन महतो पूर्वी सिंहभूम जिले का यह हिस्सा टाटानगर के नाम से भी जाना जाता है.

जमशेदपुर लोकसभा सीट झारखंड की अहम सीटों में से एक है. पूर्वी सिंहभूम जिले का यह हिस्सा टाटानगर के नाम से भी जाना जाता है. यहां से बीजेपी के बिद्युत बरन महतो सांसद हैं. इस सीट पर छठवें चरण में मतदान होगा.

इस औद्योगिक नगर की स्थापना को पारसी व्यवसायी जमशेदजी नशरवान जी टाटा के नाम से जाना जाता है. 1907 में टाटा आयरन ऐंड स्टील कंपनी (टिस्को) की स्थापना से इस शहर की नींव पड़ी. यहां पर टाटा घराने की कई कंपनियों के उत्पादन इकाई जैसे टिस्को, टाटा मोटर्स, टिस्कॉन, टिन्पलेट, टिमकन, ट्यूब डिवीजन स्थापित हैं.

राजनीतिक पृष्ठभूमि

1957 में कांग्रेस के मोहिन्दर कुमार घोष जीते. 1962 में कम्यूनिस्ट पार्टी के उदयकर मिश्रा जीतने में कामयाब हुआ. 1967 में कांग्रेस पार्टी के एससी प्रसाद और 1971 में कांग्रेस के ही सरदार स्वर्ण सिंह जीते. 1977 और 1980 में इस सीट से जनता पार्टी के रुद्र प्रताप सारंगी जीते. 1984 में कांग्रेस के गोपेश्वर जीते. 

1989 और 1991 में इस सीट से झारखंड मुक्ति मोर्चा के शैलेंद्र महतो जीते. 1996 में बीजेपी के नितिश भारद्वाज जीतने में कामयाब हुए. 1998 और 1999 में बीजेपी के टिकट पर आभा महतो जीतीं. 2004 में झारखंड मुक्ति मोर्चा के सुनील महतो जीते. 2007 में हुए उपचुनाव में झारखंड मुक्ति मोर्चा के टिकट पर ही सुमन महतो जीते. 

2009 में इस सीट से बीजेपी के टिकट पर अर्जुन मुंडा जीते. 2011 में हुए उपचुनाव में झारखंड विकास मोर्चा के अजॉय कुमार जीते. 2014 में बीजेपी के बिद्युत बरन महतो जीतने में कामयाब हुए.

सामाजिक तानाबाना

इस लोकसभा सीट के अन्तर्गत छह विधानसभा सीटें (बहारागोरा, घटशिला, पोटका, जुगसलाई, जमशेदपुर पूर्व, जमशेदपुर पश्चिम) आते हैं. इनमें जुगसलाई अनुसूचित जाति और दो सीटें घटशिला और पोटका अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित है. 2014 के आम चुनाव के दौरान इस सीट पर मतदाताओं की संख्या करीब 15.81 लाख थी. इसमें 8.11 लाख पुरुष और 7.70 लाख महिला मतदाता शामिल हैं.

2014 का जनादेश

2014 के चुनाव में बीजेपी के बिद्युत बरन महतो ने करीब एक लाख से अधिक मतों से झारखंड विकास मोर्चा के डॉ. अजॉय कुमार को हराया था. बिद्युत बरन महतो को 4.64 लाख और डॉ. अजॉय कुमार को 3.64 लाख वोट मिले थे. तीसरे नंबर पर झारखंड मुक्ति मोर्चा के निरुप महंती 1.38 लाख वोट पाकर रहे.

सांसद का रिपोर्ट कार्ड

चुनाव में दिए गए हलफनामे के मुताबिक, सांसद बिद्युत बरन महतो के पास 1.60 करोड़ की संपत्ति है. इसमें 69 लाख की चल संपत्ति और 81 लाख की अचल संपत्ति शामिल है. उनके ऊपर आठ आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं.

जनवरी, 2019 तक mplads.gov.in पर मौजूद आंकड़ों के अनुसार, बिद्युत बरन महतो ने अभी तक अपने सांसद निधि से क्षेत्र के विकास के लिए 17.25 करोड़ रुपए खर्च किए हैं. उन्हें सांसद निधि से अभी तक 18.81 करोड़ मिले हैं. इनमें से 1.55 करोड़ रुपए अभी खर्च नहीं किए गए हैं. उन्होंने 98 फीसदी अपने निधि को खर्च किया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay