एडवांस्ड सर्च

गुमलाः क्या भारतीय जनता पार्टी यहां लगा पाएगी जीत की हैट्रिक?

प्रकृति की सुंदरता से धन्य, गुमला जिला घने जंगलों, पहाड़ियों और नदियों से आच्छादित है. यह झारखंड के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित है. 18 मई 1983 को रांची से अलग होकर गुमला नया जिला बना था. गुमला शब्द मुंडारी भाषा से लिया गया है. इसका हिंदी में मतलब है गौ-मेला.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in गुमला, 05 October 2019
गुमलाः क्या भारतीय जनता पार्टी यहां लगा पाएगी जीत की हैट्रिक? गुमला का पालकोट गुफा एक रहस्यमयी स्थान है. इसे रामायण काल से जोड़कर देखा जाता है.

  • 2009 से विधायक की कुर्सी भाजपा के पास है
  • यहां, जल, जंगल और जमीन है बड़ा मुद्दा
प्रकृति की सुंदरता से धन्य, गुमला जिला घने जंगलों, पहाड़ियों और नदियों से आच्छादित है. यह झारखंड के दक्षिण-पश्चिम भाग में स्थित है. 18 मई 1983 को रांची से अलग होकर गुमला नया जिला बना था. गुमला शब्द मुंडारी भाषा से लिया गया है. इसका हिंदी में मतलब है गौ-मेला. यानी जहां गायों का मेला लगता हो. ग्रामीण क्षेत्रों में नागपुरी और सादरी लोग इसे गोमीला भी कहते हैं. गुमला जिले में आदिवासी लोगों का वर्चस्व है. यहां की कुल आबादी का 68 फीसदी अनुसूचित जनजाति है. यह अनुसूचित क्षेत्र में आता है.

मध्यकाली युग में छोटानागपुर क्षेत्र के नागा राजवंशों के राजाओं ने यहां शासन किया. ऐसा कहते हैं कि 1931-32 में कोल आंदोलन के समय बख्तर साय ने प्रमुख भूमिका निभाई थी. 1942 में अंग्रेजों के खिलाफ क्विट इंडिया मूवमेंट भी यहां पर चला था. ब्रिटिश शासन के दौरान गुमला लोहरदगा जिले में था. यहां करीब 1.35 लाख हेक्टेयर में जंगल है. यानी पूरे जिले का 27 फीसदी इलाका जंगलों में हैं. गुमला जिले में 23 बॉक्साइट और 68 स्टोन खानें हैं.

राजनीतिः 2009 से भाजपा के कब्जे में है विधायक की कुर्सी

2005 में झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के भूषण तिर्की विधायक बने थे. लेकिन 2009 से अब तक इस विधानसभा क्षेत्र से भाजपा का ही विधायक कुर्सी पर है. 2009 में भाजपा के कमलेश उरांव जीते थे. इसके बाद 2014 में भाजपा की तरफ से शिवशंकर उरांव विधायक बने. यहां पर धर्म, जातिवाद और आदिवासी मुद्दों पर ही चुनाव लड़ा जाता है.

10.25 लाख आबादी, साक्षरता दर 65.73 फीसदी

2011 की जनगणना के अनुसार गुमला की कुल आबादी 1,025,213 है. इनमें से 514,390 पुरुष हैं और 510,823 महिलाएं हैं. जिले का औसत लिंगानुपात 993 है. जिले की 6.3 फीसदी आबादी शहरी और 93.7 फीसदी ग्रामीण इलाकों में रहती है. जिले की साक्षरता दर 65.73 फीसदी है. पुरुषों में शिक्षा दर 62.56 फीसदी और महिलाओं में 46.58 फीसदी है.

लोहरदगा की जातिगत गणित

  • अनुसूचित जातिः 32,459
  • अनुसूचित जनजातिः 706,754
जानिए... गुमला में किस धर्म के कितने लोग रहते हैं?
  • हिंदूः 309,563
  • मुस्लिमः 51,429
  • ईसाईः 202,449
  • सिखः 221
  • बौद्धः 531
  • जैनः 23
  • अन्य धर्मः 457,468
  • जिन्होंने धर्म नहीं बतायाः 3,529
गुमला में कामगारों की स्थिति

गुमला की कुल आबादी में से 487,508 लोग कामगार है. इनमें से 57.2 फीसदी आबादी स्थाई रोजगार में हैं या साल में 6 महीने से ज्यादा कमाई करते हैं.

  • मुख्य कामगारः 278,931
  • किसानः 196,517
  • कृषि मजदूरः 33,161
  • घरेलू उद्योगः 7,482
  • अन्य कामगारः 41,771
  • सीमांत कामगारः 208,577
  • जो काम नहीं करतेः 537,705
गुमला का पर्यटन, धार्मिक और सांस्कृतिक विरासत

गुमला के जंगलों को देखना ही अपनेआप में सुकून देने वाला होता है. इसके बावजूद यहां पर कई ऐसे स्थान हैं जहां जाकर आपको अच्छ लगेगा. कामडारा पर्यटन यानी आमटोली में स्थित भगवान शिव का पुराना मंदिर. इसके अलावा यहां पर बासुदेवकोना है. जो अजंता जैसी मूर्तियों के लिए प्रसिद्ध है. टांगीनाथ एक मध्यकालीन युग का सबूत है. यहां मंदिर के परिसर में सैकड़ों शिव की मूर्तियां हैं. यहीं पर नागफेनी है. यह जगन्नाथ मंदिर के लिए प्रसिद्ध है. यहां सांप के आकार में बड़ी चट्टान है. इसके अलावा आंजन गांव है जो भगवान हनुमान की मां देवी अंजनी के नाम पर है. कहते हैं कि देवी अंजनी यहीं एक पहाड़ी गुफा में रहती थीं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay