एडवांस्ड सर्च

बंगाल की तरह झारखंड में भी बवाल, हड़ताल पर जा सकते हैं डॉक्टर

झारखंड के डॉक्टर पहले से ही विरोध के मूड में हैं क्योंकि उनकी मांग है कि सरकार मेडिकल प्रोटेक्शन एक्ट पास करे ताकि डॉक्टरों की सुरक्षा सुनिश्चित हो सके लेकिन सरकार इस पर ध्यान नहीं दे रही.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in रांची, 04 July 2019
बंगाल की तरह झारखंड में भी बवाल, हड़ताल पर जा सकते हैं डॉक्टर झारखंड में डॉक्टरों का विरोध (फाइल फोटो)

बंगाल की तरह झारखंड में भी डॉक्टरों की हड़ताल की संभावना बढ़ गई है. झारखंड में प्रशासन और डॉक्टर आमने सामने आ गए हैं. मामला तब और गंभीर हो गया जब प्री-नेटल डायग्नोस्टिक टेक्निक (पीएनडीटी) जांच का आरोपी मानते हुए डॉ. सीमा मोदी को जेल में डाल दिया गया.

झारखंड के डॉक्टरों का आरोप है कि डॉ. सीमा को गलत आरोप में फंसा कर उन्हें जेल में डाला गया है. सेक्स टेस्ट कराने वाली महिला भी इस मामले में कूद गई है और उसने कुछ अधिकारियों के खिलाफ मामले दर्ज कराए हैं. इनमें कोडरमा के सिविल सर्जन के खिलाफ केस भी शामिल है. वह महिला खुद को इस मामले से अनजान बता रही है और प्रशासन से पूछा है कि उसका नाम क्यों घसीटा गया. उधर प्रशासन ने डॉ. सीमा को प्री-नेटल डायग्नोस्टिक टेक्निक (पीएनडीटी) जांच का आरोपी माना है और कहा गया है कि डॉक्टर ने सेक्स टेस्ट में लड़की पैदा होने की बात कही थी जबकि महिला ने लड़के को जन्म दिया.

झारखंड के डॉक्टर पहले से ही विरोध के मूड में हैं क्योंकि उनकी मांग है कि सरकार मेडिकल प्रोटेक्शन एक्ट पास करे ताकि डॉक्टरों की सुरक्षा सुनिश्चित हो सके लेकिन सरकार इस पर ध्यान नहीं दे रही. कई साल से यह मांग अधर में लटकी है. कुछ हफ्ते पहले डॉक्टरों ने एकजुटता दिखाते हुए सुरक्षा के मुद्दे पर सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था.

अब कोडरमा में एक महिला डॉक्टर की गिरफ्तारी के बाद प्रदेश के डॉक्टर विरोध के मूड में आ गए हैं. डॉक्टरों का आरोप है कि डॉ. सीमा मोदी को गलत और भ्रामक आरोपों के आधार पर फंसाया गया है. आईएमए के स्टेट कोऑर्डिनेशन और पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अजय ने पूरे सिस्टम को बीमार बताया है. डॉ. अजय ने कहा, ' यह चिंता की बात है कि किसी महिला की शिकायत पर एक लेडी डॉक्टर को जेल में डाल दिया गया. यह दुर्भाग्यपूर्ण है. हमलोग एक सड़े सिस्टम में काम कर रहे हैं.'

इस घटना पर झारखंड हेल्थ एडमिनिस्ट्रेशन एसोसिएशन (झासा) के अध्यक्ष डॉ. विमलेश खफा हैं और वे डॉक्टरी पेशे को अफसरशाही के हाथों ठगे जाने की बात कह रहे हैं. डॉ. विमलेश ने कहा कि डॉक्टर की गिरफ्तारी ये दिखाने के लिए की गई कि प्रशासन भी गंभीरता से काम कर रहा है. झासा इस मामले में अपना विरोध जारी रखेगा और आगे आंदोलन करने की भी तैयारी है. प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी अपनी वही बात दोहराते दिख रहे हैं जिसमें विस्तृत जांच कराए जाने की बात कही गई है. चंद्रवंशी के मुताबिक रिपोर्ट आने के बाद दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay