एडवांस्ड सर्च

JKPSC ने नेत्रहीन छात्रों को परीक्षा में बैठने से रोका

जम्मू-कश्मीर लोक सेवा आयोग ने नेत्रहीन छात्रों को आगामी 'कश्मीर एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस' की परीक्षा में भाग लेने से रोक दिया है. यह परीक्षा पूरे प्रदेश में 19 मार्च को आयोजित होने वाली है.

Advertisement
aajtak.in
अश्विनी कुमार नई दिल्ली, 17 March 2017
JKPSC ने नेत्रहीन छात्रों को परीक्षा में बैठने से रोका फाइल फोटो

जम्मू-कश्मीर लोक सेवा आयोग ने नेत्रहीन छात्रों को आगामी 'कश्मीर एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस' की परीक्षा में भाग लेने से रोक दिया है. यह परीक्षा पूरे प्रदेश में 19 मार्च को आयोजित होने वाली है.

इस परीक्षा में शामिल होने वाले नेत्रहीन छात्रों ने आयोग की कार्यप्रणाली पर गंभीर आरोप लगाये है. इन छात्रों का आरोप है कि आयोग उन्हें परीक्षा देने के लिए किसी लिपिक, स्क्राइब या राइटर ले जाने की अनुमति नहीं दे रहा है.

जिला रजौरी की रहने वाली अज़रा कुरैशी एक ऐसी ही छात्रा हैं जो आयोग के इस फैसले से सीधे-सीधे प्रभावित हुई हैं.

जम्मू के वहीद अंजुम कुरैशी भी करीब 50 प्रतिशत नेत्रहीन है और उन्हें भी अज़रा जैसी ही दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. वहीद के मुताबिक उन्होंने पिछले साल संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा के लिए भी आवदेन दिया था जहां उनसे न सिर्फ लिपिक के बारे में पूछा गया था बल्कि प्रश्न पत्र का फॉण्ट बड़ा या छोटा रखने के बारे में भी राय ली गई थी. वहीद का आरोप है कि आयोग अब अपनी ज़िम्मेदारियों से भाग रहा है.

प्रदेश के नेत्रहीन छात्र-छात्राएं इस मामले को लेकर हाई कोर्ट पहुँच गए है. इन छात्रों को उम्मीद है कि उन्हें संघ लोक सेवा आयोग की तर्ज़ पर ही प्रदेश लोक सेवा आयोग में भी कुछ रियायत मिलगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay