एडवांस्ड सर्च

JK में मारा गया एक और खूंखार आतंकी, सुरक्षा बलों ने कैसे मार गिराया, पढ़ें पूरी कहानी

जुनैद सेहराई मार्च 2018 में हिज्बुल संगठन से जुड़ा था. इसी समय उसके पिता मोहम्मद अशरफ सेहराई को सैयद अली शाह गिलानी की जगह तहरीक-ए-हुर्रियत का नया चेयरपर्सन नियुक्त किया गया था. जुनैद एक दिन जुमे की नमाज के बाद अचानक लापता हो गया था.

Advertisement
aajtak.in
कमलजीत संधू नई दिल्ली, 20 May 2020
JK में मारा गया एक और खूंखार आतंकी, सुरक्षा बलों ने कैसे मार गिराया, पढ़ें पूरी कहानी हिज्बुल आतंकी जुनैद सेहराई (फाइल फोटो)

  • भीड़भाड़ वाले इलाके में फंस गए थे दोनों आतंकी
  • 10 घंटे चले ऑपरेशन में मारे गए हिज्बुल आतंकी
  • हिज्बुल के शीर्ष 6 आतंकी अब तक मारे जा चुके

जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. सुरक्षाबलों ने श्रीनगर के नवकडल इलाके में दो आतंकियों को मार गिराया जिसमें एक आतंकी जुनैद सेहराई है, जिसके पिता अलगाववादी नेता और तहरीक-ए-हुर्रियत के चेयरपर्सन हैं. यह आतंकी आखिर कैसे सुरक्षाबलों के हत्थे चढ़ा. पढ़ें पूरी कहानी...

सुरक्षाबलों ने श्रीनगर में आज मंगलवार को 2 हिज्बुल आतंकियों को ढेर कर दिया जिसमें एक 29 वर्षीय शीर्ष कमांडर जुनैद सेहराई शामिल है. दोनों नवकडल के कनामाजार इलाके में फंस गए थे. दोनों आतंकी भीड़भाड़ वाले इलाके में फंस गए थे.

भागने की कोशिश में मारा गया

दोनों आतंकियों को पकड़ने के लिए चलाए गए ऑपरेशन में करीब 10 घंटे का समय लगा. सुरक्षाबलों को मौका तब हाथ लगा जब एक आतंकवादी भागने की कोशिश करने लगा तो उसका पीछा कर मार दिया गया.

पुलवामा में 6 मई को हिज्बुल कमांडर इन चीफ रियाज नाइकू की हत्या के 2 हफ्ते से भी कम समय में एक और शीर्ष आतंकी जुनैद सेहराई की हत्या हुई है. सेहराई कश्मीर घाटी में नए हिज्बुल मुजाहिद्दीन (HM) चीफ डॉक्टर सैफुल्ला का डिप्टी था. जुनैद सेहराई उर्फ ​​जफर-उल-इस्लाम हिज्बुल मुजाहिदीन जम्मू-कश्मीर का नया डिप्टी चीफ कमांडर बनाया गया था.

इसे भी पढ़ें ---- हुर्रियत नेता के बेटे समेत दो आतंकियों को सुरक्षाबलों ने किया ढेर, एक जवान शहीद

जम्मू-कश्मीर पुलिस के महानिदेशक (डीजी) दिलबाग सिंह ने इंडिया टुडे से बातचीत में कहा कि दो आतंकवादी मारे गए हैं. मारे गए दोनों आतंकी हिज्बुल मुजाहिद्दीन से जुड़े हुए थे. दोनों के शव और हथियार बरामद कर लिए गए हैं. खुफिया सूचना मिलने पर सीआरपीएफ के साथ पुलिस ने श्रीनगर में यह ऑपरेशन चलाया था. ऑपरेशन में दो पुलिसकर्मियों और दो सीआरपीएफकर्मियों को मामूली चोटें आई हैं.

इनपुट मिलने के बाद ही ऑपरेशन शुरू

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने कहा कि तकनीकी इनपुट मिलने के बाद ही ऑपरेशन शुरू किया गया था. 2017 बैच के आईपीएस निखिल बोरकर जो इस समय राम-मुंशी बाग पुलिस स्टेशन श्रीनगर में एसएचओ के रूप में परिवीक्षाधीन हैं, वो खुफिया ग्रिड का हिस्सा, घेरा डालना और निर्णायक कार्रवाई में शामिल रहे.

एक शीर्ष सूत्र ने कहा कि जुनैद एक तेज तर्रार युवक था. उसका मोबाइल नंबर ट्रैक कर लिया गया. एक सूत्र ने कहा, 'दो हफ्ते पहले वह कंगान के पास गया था जहां वह दो विदेशी आतंकवादी के साथ आया था. उसने अपने 'हॉटस्पॉट' का इस्तेमाल किया. उस समय जब इलाके को घेर तक उसकी खोज की गई तब वह भागने में कामयाब हो गया था. इस बार भी वह श्रीनगर में एक मीटिंग में शामिल होने आया था.

सुबह 2 बजे शुरू हुआ CASO

आज सुबह 2 बजे से कुछ समय पहले, कॉर्डन एंड सर्च ऑपरेशन (CASO) शुरू किया गया. संपर्क की पुष्टि होने के बाद सुबह 3 बजे एक ग्रेनेड सुरक्षा बलों के पास पहुंचाया गया. अंधेरे में डूबे क्षेत्र में जम्मू-कश्मीर पुलिस ने मोबाइल इंटरनेट और वॉयस कॉल की सुविधा रोक दी. हालांकि इस कार्रवाई में चार सुरक्षाकर्मी घायल हो गए.

जुनैद सेहराई मार्च 2018 में हिज्बुल संगठन से जुड़ा था. इसी समय उसके पिता मोहम्मद अशरफ सेहराई को सैयद अली शाह गिलानी की जगह तहरीक-ए-हुर्रियत का नया चेयरपर्सन नियुक्त किया गया था. जुनैद एक दिन जुमे की नमाज के बाद अचानक लापता हो गया था. हालांकि एके-47 के साथ उसकी एक तस्वीर वायरल हो रही है.

इसे भी पढ़ें--- घर लौटने के लिए तड़प रहे 80 कश्मीरी मजदूरों की मदद को आए राम-लक्ष्मण

जुनैद के बड़े भाई खालिद, जो सऊदी अरब में काम करता है, ने मार्च 2018 में श्रीनगर के सदर पुलिस स्टेशन में अपने भाई की एक गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई कराई थी. तब परिवार ने जुनैद (तब 26 साल) से उससे घर वापस लौटने के लिए कोई आशंका या अपील नहीं की. हालांकि सुरक्षाबलों ने उसे वापस लाने की कई कोशिशें की थी, लेकिन जुनैद के लिए वापस लौटने की कोई संभावना नहीं रह गई.

परिजनों को नहीं मिलेगा शवः सूत्र

जुनैद अशरफ खान, बागत इलाके में अपने घर के पास जुमे की नमाज के दिन गायब हो गया था, लेकिन जल्द ही उसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर एक बंदूक के साथ दिखाई देने लगीं, जिसमें वह यह घोषणा करते हुए दिख रहा है कि वह आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिद्दीन में शामिल हो गया है. वह मूल रूप से सीमांत कुपवाड़ा जिले का रहने वाला था, लेकिन माना जाता है कि परिवार 1990 में श्रीनगर आ गया था.

इसे भी पढ़ें --- अफरीदी ने अलापा कश्मीर राग, धवन बोले- हमारा है, हमारा था, हमारा रहेगा

सूत्रों का कहना है कि नए दिशा-निर्देशों के तहत सुरक्षा बल उसके शव को उसके परिवार को नहीं सौंपेंगे. दोनों शवों को बारामुला के शीरी में दफनाया जाएगा. इसके साथ सभी आतंकवादी संगठनों के शीर्ष 6 कमांडर सुरक्षा बलों के हाथों मारे जा चुके हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay