एडवांस्ड सर्च

कोरोना संकट: महबूबा की PMO से अपील- J-K के बाहर हजारों युवाओं को मिले रिहाई

जम्मू-कश्मीर में मंगलवार को नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला को रिहा किया गया था. उमर की रिहाई से कुछ दिन पहले उनके पिता फारूक अब्दुल्ला की भी नजरबंदी खत्म की गई थी. अब माना जा रहा है कि महबूबा मुफ्ती भी जल्द रिहा हो सकती हैं.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in श्रीनगर, 26 March 2020
कोरोना संकट: महबूबा की PMO से अपील- J-K के बाहर हजारों युवाओं को मिले रिहाई पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती

  • बाहर की जेलों में कैद युवाओं को लेकर महबूबा चिंतित
  • अगस्त 2019 में पूर्व मुख्यमंत्री को गिरफ्तार किया गया

पिछले 8 महीने से कैद पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की जल्द रिहाई हो सकती है. उनकी रिहाई की संभावना को उस समय बल मिला जब दो अन्य पूर्व मुख्यमंत्रियों को फारुक और उमर अब्दुल्ला को रिहा कर दिया गया. रिहाई की संभावनाओॆ के बीच महबूबा के ट्विटर हैंडल से प्रधानमंत्री कार्यालय से यह गुजारिश की गई कि जम्मू-कश्मीर से बाहर हजारों की संख्या में कैद युवाओं को रिहा किया जाए.

महबूबा अभी राजनीतिक बंदी के रूप में हैं, लेकिन उनका ट्वीटर हैंडल उनकी बेटी इल्तिजा चलाती हैं. महबूबा के ट्वीटर हैंडल से कहा गया, 'मेरी मां अपनी रिहाई की रिपोर्ट सुन रही हैं और वह इसके लिए आभारी भी हैं, लेकिन वह जम्मू-कश्मीर के बाहर के जेलों में कैद हजारों युवाओं को लेकर चिंतित हैं. कोविड (कोरोना) के प्रकोप को लेकर उनके परिवार वाले बेहद परेशान हैं जो अकल्पनीय है.'

एक अन्य ट्वीट में महबूबा की ओर से पोस्ट किया गया, 'वह तो अपने घर से महज 10 मिनट की दूरी पर हैं लेकिन वे अपने परिवार से सैकड़ों मील दूर हैं. वह प्रधानमंत्री कार्यालय से युवाओं की तत्काल रिहाई का आग्रह कर रही हैं.'

J-K में राजनीतिक बंदियों की रिहाई जारी

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक बंदियों की रिहाई जारी है. इसी कड़ी में यह खबर आई कि पूर्व मुख्यमंत्री और पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की नेता महबूबा मुफ्ती भी बुधवार को रिहा की जा सकती हैं.

इससे एक दिन पहले यानी मंगलवार को नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला को रिहा किया गया था. उमर की रिहाई से कुछ दिन पहले उनके पिता फारूक अब्दुल्ला की भी नजरबंदी खत्म की गई थी.

अगस्त में हुई थी गिरफ्तारी

करीब 8 महीने से पब्लिक सेफ्टी एक्ट (पीएसए) के तहत हिरासत में ली गईं पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की रिहाई का आदेश गृह मंत्रालय की ओर से जल्द जारी किया जा सकता है. महबूबा मुफ्ती को पांच अगस्त, 2019 को राज्य के 2 अन्य पूर्व मुख्यमंत्रियों फारूक अब्दुल्ला और उमर अब्दुल्ला के साथ हिरासत में लिया गया था.

केंद्र सरकार के जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के फैसले के दौरान फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती समेत सैकड़ों नेताओं को हिरासत में लिया गया था. फारुख को तो बीते महीने रिहा कर दिया गया था जबकि उमर को मंगलवार को रिहा किया गया था.

इसे भी पढ़ें--- मोदी बोले- महाभारत का युद्ध 18 दिन में जीता था, कोरोना से 21 दिन में जीत की कोशिश

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

ना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

SC के सवाल के बाद उमर की रिहाई

इस बीच उमर अब्दुल्ला की बहन सारा पायलट द्वारा दाखिल एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि जम्मू-कश्मीर सरकार को यह स्पष्ट करना चाहिए कि क्या वे जल्द ही उमर अब्दुल्ला को रिहा करने का इरादा रखते हैं या नहीं? इसके बाद राज्य प्रशासन ने उमर अब्दुल्ला की नजरबंदी को खत्म कर दिया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay