एडवांस्ड सर्च

खतरा! अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने की फिराक में 48 विदेशी आतंकी

ऑपरेशन ऑल आउट आतंकियों के खिलाफ कश्मीर घाटी में एक बार फिर शुरू हो गया है. बौखलाहट में आतंकी अब अमरनाथ यात्रा को निशाना बना सकते हैं.

Advertisement
aajtak.in
मोनिका गुप्ता / जितेंद्र बहादुर सिंह श्रीनगर, 21 June 2018
खतरा! अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने की फिराक में 48 विदेशी आतंकी प्रतीकात्मक फोटो

ऑपरेशन ऑल आउट आतंकियों के खिलाफ कश्मीर घाटी में एक बार फिर शुरू हो गया है. बौखलाहट में आतंकी अब अमरनाथ यात्रा को निशाना बना सकते हैं. खुफिया रिपोर्ट में इस बात की जानकारी मिली है कि आतंकी अमरनाथ यात्रा रूट पर फिदायीन हमला कर सकते हैं.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, आतंकियों ने साउथ कश्मीर से जाने वाले अमरनाथ यात्रा रूट पर आतंकी हमले का प्लान तैयार किया है. इस इलाके में सबसे ज्यादा आतंकियों की मौजूदगी इस समय है. पाकिस्तान से आए आतंकी जिनकी संख्या करीब 48 है, वह अमरनाथ यात्रा पर हमला कर सकते हैं. हालांकि सुरक्षा बलों की खास तैयारी है. इस बार पिछले साल की अपेक्षा भारी संख्या में अर्धसैनिक बलों की तैनाती की गई है. यही नहीं सुरक्षा घेरे में आर्मी के साथ-साथ राज्य की पुलिस की चौकसी सुरक्षा बढ़ाई जा रही है.

'आज़तक' को मिली जानकारी के मुताबिक, घाटी में मौजूद विदेशी आतंकी अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने का प्लान तैयार किया है. घाटी में इस समय 48 विदेशी आतंकी मौजूद है. जिसमे सबसे ज्यादा 38 लश्कर के पाकिस्तानी आतंकी हैं.

बता दें कि घाटी में इस समय कुल करीब 205 आतंकी मौजूद हैं. अमरनाथ यात्रा साउथ कश्मीर के उस एरिया से निकलती है, जहां इस समय सबसे ज्यादा आतंकियों की संख्या है. सूत्रों के मुताबिक, घाटी में आतंकियों के खिलाफ ऑपरेशन तेज होने की बौखलाहट में लश्कर और जैश के आतंकी साथ मिलकर अमरनाथ यात्रियों पर हमला करने की फ़िराक में हैं. घाटी में इस समय 102 हिजबुल मुजाहिद्दीन के लोकल आतंकी के साथ-साथ 47 लश्कर और 11 जैश के लोकल आतंकी मौजूद हैं. जो कश्मीर के जंगलों में ट्रेनिंग लेकर यात्रा पर हमला करने की कोशिश कर सकते हैं.

इस साल खास होगी अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा

अमरनाथ यात्रा पर खुफिया एजेंसियों के इनपुट पर भी पूरी चर्चा के बाद, खतरे को देखते हुए इस बार तकनीक के आधार पर पूरे यात्रा रूट को सुरक्षित करने का प्लान तैयार हुआ है. अमरनाथ यात्रा के मद्देनजर सुरक्षा एजेंसियों का अहम फैसला ये हुआ है कि पिछले साल के मुकाबले इस साल 17 फीसदी ज्यादा सुरक्षा बलों की तादात बढ़ाई जा रही है. पिछले साल 204 कंपनियां सुरक्षा बलों की थी उन्हें 2018 में बढ़ाकर 238 कंपनियां कर दिया गया है. इस साल एसपी स्तर के अधिकारियों द्वारा अर्धसैनिक बलों के कंपनियों की अगुवाई की जाएगी. 1364 हेल्पलाइन नंबर होगा. ये लोगों की मदद के लिए बनाई गई है. आरएफ आईडी कार्ड वाहनों में लगा होगा जिससे वाहनों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाएगी. अमरनाथ यात्रा के संवेदनशील जगहों पर ड्रोन कैमरों से नजर रखी जाएगी.

जम्मू- कश्मीर में घुसपैठ की तैयारी में 450 आतंकी

जम्मू- कश्मीर में 450 आतंकी घुसपैठ की तैयारी में हैं. यह खुलासा खुफिया रिपोर्ट में हुआ है. रिपोर्ट के मुताबिक, कश्मीर में तबाही मचाने के लिए पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने लश्कर और जैश-ए-मोहम्मद के 450 आतंकियों को 'पीओके' के लॉन्च पैड पर इकट्ठा किया है. सूत्रों के मुताबिक, घुसपैठ के लिए 11 नए लॉन्च पैड भी सक्रिय किए गए हैं. ''आजतक'' के पास मौजूद इस रिपोर्ट में इस बात का जिक्र है कि आतंकी अमरनाथ यात्रा से पहले बड़े धमाके करने की फिराक में हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay