एडवांस्ड सर्च

फारूक अब्दुल्ला के बचाव में आए गुलाम नबी आजाद, बोले- उनका अपराध बताए सरकार

पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला की नजरबंदी पर आजाद ने कहा कि वह सूबे के सीएम रहे हैं, ऐसे में उन्होंने कौन सा अपराध किया था जो उनपर पब्लिक सेफ्टी एक्ट लगा दिया है. वह तो काफी बुजुर्ग हैं उनके साथ ऐसा बर्ताव नहीं होना चाहिए.

Advertisement
aajtak.in
मौसमी सिंह नई दिल्ली, 16 September 2019
फारूक अब्दुल्ला के बचाव में आए गुलाम नबी आजाद, बोले- उनका अपराध बताए सरकार कांग्रेस नेता और राज्यसभा सांसद गुलाम नबी आजाद ( फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद को कश्मीर जाने की इजाजत दे दी. कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि वह सिर्फ 4 जिलों का ही दौरा कर सकते हैं, साथ ही वहां किसी राजनीतिक कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगे. राज्य से धारा 370 हटने के बाद गुलाम नबी आजाद कई बार कश्मीर जाने की कोशिश कर चुके हैं लेकिन उन्हें केंद्र सरकार की ओर से इसकी इजाजत नहीं दी गई थी.

कोर्ट की ओर से कश्मीर जाने की इजाजत मिलने के बाद गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में दायर मेरी याचिका बाकियों से अलग थी. उन्होंने कहा कि मेरी ओर से न धारा 370 पर बात कही गई और न कश्मीर के हालात पर, मैंने अपनी याचिका में रिश्तेदारों से मिलने की इजाजत भी नहीं मांगी थी. आजाद ने कहा कि मैं सिर्फ जम्मू कश्मीर के दैनिक मजदूरों का हाल जानने के लिए वहां जाना चाहता हूं, क्योंकि मुझे नहीं पता कि वे कैसे वहां जीवन यापन कर रहे हैं.

दैनिक मजदूरों का हाल लूंगा

राज्यसभा में नेता विपक्ष गुलाम नबी आजाद ने कहा कि सेब की खेत करने वालों से लेकर भट्टे पर लगे कामगार, घुड़सवारी कराने वाले लोग, मजदूर रोज दिहाड़ी से अपना जीवन चलाते हैं और मैं उनका हाल जानने के लिए जाना चाहता हूं. उन्होंने कहा कि इस वक्त कश्मीर की एक तिहाई आबादी सरकार के फैसले से प्रभावित है और मैं जानना चाहता हूं कि वे लोग कैसे जिंदा हैं और कैसे कमाई कर रहे हैं.

आजाद ने कहा कि केंद्र सरकार कह रही है कि हमने सामान का स्टॉक कर लिया है लेकिन लोगों के पास उसे खरीदने के पर्याप्त पैसे भी हैं क्या. उन्होंने कहा कि कश्मीर दौरे पर मैं बारामूल, अनंतनाग, जम्मू और श्रीनगर जाऊंगा और वहां ऐसे लोगों से मिलकर उनका हाल जानने की कोशिश करूंगा क्योंकि उनके लिए मेरे मन में काफी चिंता है.

कश्मीर जा रहे सिर्फ बीजेपी नेता

केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए आजाद ने कहा कि सरकार किसी को भी वहां जाने नहीं दे रही है. आज 43 दिन बाद भी नेताओं को नजरबंद रखा गया है और सिर्फ सत्ताधारी पार्टी के लोग ही वहां जा पा रहे हैं. उन्होंने कहा कि गृह मंत्री का कार्यक्रम जो कि सरकारी होता है उसमें तक बीजेपी के तमाम नेता उनके साथ गए थे. आजाद ने सुप्रीम कोर्ट का आभार जताते हुए कहा कि अदालत ने मुझे मानवता के आधार पर कश्मीर जाने की इजाजत दी है.

सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका पर आजाद ने कहा कि चीफ जस्टिस खुद भी जम्मू कश्मीर जाना चाहते हैं और इसका पूरा देश स्वागत करेगा क्योंकि इससे काफी फर्क पड़ेगा. पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला की नजरबंदी पर आजाद ने कहा कि वह सूबे के सीएम रहे हैं, ऐसे में उन्होंने कौन सा अपराध किया था जो उनपर पब्लिक सेफ्टी एक्ट लगा दिया है. वह तो काफी बुजुर्ग हैं उनके साथ ऐसे बर्ताव नहीं होना चाहिए.

फारूक से डरती है बीजेपी

आजाद ने कहा कि कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों ने आतंकवाद के खिलाफ जंग छेड़ी थी और राज्य के विकास के लिए काम किया. हम लोग हमेशा कश्मीर के आवाम के साथ खड़े रहे और अपनी जान पर खेलकर आतंक का मुकाबला किया. आजाद ने कहा कि बीजेपी को फारूक अब्दुल्ला से डर लगता है और यही वजह है कि उनपर PSA लगाया गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay