एडवांस्ड सर्च

जस्टिस चंद्रचूड़ बोले- असहमति को 'देश विरोधी' कहना लोकतंत्र की आत्मा पर चोट

जस्टिस डी. वाई. चंद्रचूड़ ने असहमति को लोकतंत्र का सेफ्टी वॉल्व बताया है. गुजरात हाई कोर्ट में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि असहमति को देश विरोधी ठहराना लोकतंत्र की आत्मा पर चोट है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in अहमदाबाद, 15 February 2020
जस्टिस चंद्रचूड़ बोले- असहमति को 'देश विरोधी' कहना लोकतंत्र की आत्मा पर चोट जस्टिस डी वाई चंद्रचूड़ अहमदाबाद में व्याख्यान दे रहे थे (फाइल फोटो: पीटीआई)

  • जस्टिस डी. वाई. चंद्रचूड़ ने असहमति को बताया लोकतंत्र का सेफ्टी वॉल्व
  • गुजरात हाई कोर्ट में आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे जस्टिस चंद्रचूड़

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस डी. वाई. चंद्रचूड़ ने शांतिपूर्वक चलने वाले विरोध प्रदर्शनों का समर्थन करता हुआ एक बड़ा बयान दिया है. शनिवार को उन्होंने कहा कि असहमति को एक सिरे से राष्ट्र-विरोधी और लोकतंत्र-विरोधी बता देना लोकतंत्र पर हमला है. उन्होंने कहा कि विचारों को दबाना देश की अंतरात्मा को दबाना है. अहमदाबाद में गुजरात हाई कोर्ट के ऑडिटोरियम में 15वें पी. डी. मेमोरियल लेक्चर में डी. वाई. चंद्रचूड़ ने 'असहमति' को लोकतंत्र का 'सेफ्टी वॉल्व' भी बताया.

जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि असहमति पर अंकुश लगाने के लिए सरकारी तंत्र का इस्तेमाल डर की भावना पैदा करता है. उन्होंने कहा, 'असहमति को एक सिरे से राष्ट्र-विरोधी और लोकतंत्र-विरोधी करार देना संवैधानिक मूल्यों के संरक्षण एवं विचार-विमर्श करने वाले लोकतंत्र को बढ़ावा देने के प्रति देश की प्रतिबद्धता की मूल भावना पर चोट करती है.'

जस्टिस चंद्रचूड ने दिखाई सरकारों को सही राह

जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि असहमति का संरक्षण करना इस बात की याद दिलाता है कि लोकतांत्रिक रूप से एक निर्वाचित सरकार हमें विकास और सामाजिक समन्वय के लिए एक सही टूल देती है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार उन मूल्यों और पहचानों पर कभी एकाधिकार का दावा नहीं कर सकती जो हमारी बहुलवादी समाज को परिभाषित करती हैं.

यह भी पढ़ें: CAA प्रदर्शन में शामिल हुए इमरान प्रतापगढ़ी को प्रशासन ने भेजा 1 करोड़ का नोटिस

जस्टिस चंद्रचूड बोले- असहमति लोकतंत्र का एक 'सेफ्टी वॉल्व'

जस्टिस चंद्रचूड़ ने 15 वें, न्यायमूर्ति पीडी देसाई स्मारक व्याख्यान में 'भारत को निर्मित करने वाले मतों: बहुलता से बहुलवाद तक' विषय पर बोलते हुए आगे कहा कि सवाल करने की गुंजाइश को खत्म करना और असहमति को दबाना सभी तरह की प्रगति- राजनीतिक, आर्थिक, सांस्कृतिक और सामाजिक बुनियाद को नष्ट कर देता है. इस मायने में असहमति लोकतंत्र का एक 'सेफ्टी वॉल्व' है.

असहमति पर प्रहार लोकतांत्रिक समाज के मूल विचार पर चोट

सुप्रीम कोर्ट के जज ने आगे कहा, "असहमति पर प्रहार संवाद आधारित लोकतांत्रिक समाज के मूल विचार पर चोट करता है. इस तरह किसी सरकार को यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि वह अपनी मशीनरी को कानून के दायरे में विचार एवं अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के संरक्षण के लिए तैनात करे और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर रोक लगाने या डर की भावना पैदा करने की किसी भी कोशिश को नाकाम करे."

यह भी पढ़ें: शाहीन बाग पहुंचे अनुराग कश्यप, कहा- मोदी सरकार नहीं समझती प्यार की भाषा

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि विचार-विमर्श वाले संवाद का संरक्षण करने की प्रतिबद्धता प्रत्येक लोकतंत्र का, खासतौर पर किसी सफल लोकतंत्र का एक अनिवार्य पहलू है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay