एडवांस्ड सर्च

गुजरातः वणीकर भवन पर कब्जे को लेकर तोगड़िया और VHP में संघर्ष

विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) और आरएसएस के कार्यकर्ताओं ने अहमदाबाद के वणीकर भवन जो कि पहले वीएचपी का दफ्तर था, वहां एंट्री को लेकर ऑफिस को खाली करवाने कि कोशिश की गई. वीएचपी कार्यकर्ताओं और डॉक्टर तोगड़िया के समर्थकों के बीच जमकर हंगामा हुआ. बढ़ते हंगामे को देखते हुए पुलिस को बीच-बचाव के लिए बुलाना पड़ा.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in अहमदाबाद, 10 February 2019
गुजरातः वणीकर भवन पर कब्जे को लेकर तोगड़िया और VHP में संघर्ष प्रवीण तोगड़िया (फाइल-PTI)

डॉक्टर प्रवीण तोगड़िया के अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद और विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के बीच गुजरात में एक बार फिर से लड़ाई शुरू हो गई है. इस बार विवाद की जड़ है अहमदाबाद के पालडी इलाके में स्थित वणीकर भवन का मालिकाना हक. वणीकर भवन 70 के दशक से वीएचपी का कार्यालय रहा है. इस भवन पर वीएचपी के कार्यकर्ताओं ने शनिवार को कब्जा जमा लिया.

विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) और आरएसएस के कार्यकर्ताओं ने अहमदाबाद के वणीकर भवन जो कि पहले वीएचपी का दफ्तर था, वहां एंट्री को लेकर ऑफिस को खाली करवाने कि कोशिश की गई. वीएचपी कार्यकर्ताओं और डॉक्टर तोगड़िया के समर्थकों के बीच जमकर हंगामा हुआ. बढ़ते हंगामे को देखते हुए पुलिस को बीच-बचाव के लिए बुलाना पड़ा.

इस घटना की खबर मिलते ही तोगड़िया ने ट्वीट किया, उन्होंने कहा कि हमारी एएचपी गुजरात अहमदाबाद ऑफिस पर गुंडों को साथ लेकर गुजरात पुलिस ने हमला किया है अभी. कोर्ट से हमें उस ऑफिस पर हक मिला है, ये कोर्ट को भी नहीं मानते. मेरा रूम और बाकी के ताले तोड़कर हमारा सामान, मेरे भगवान की मूर्तियां सड़क पर फेंकी हैं. सत्ता के मद में भयंकर दमन.

एक समय तोगड़िया यहीं विश्व हिन्दू परिषद का संचालन किया करते थे, लेकिन 2018 में परिषद के रिश्ता खराब होने और उससे अलग होने के बाद वणीकर भवन किसका है, विवाद बना हुआ है. लेकिन शनिवार को दोनों गुटों के कार्यकर्ताओं के बीच भवन पर कब्जा के लिए झड़प हो गई. तोगड़िया ने वीएचपी से निकाले जाने के बाद अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद (एएचपी) नामक संगठन का गठन किया था.

वणीकर भवन जहां कभी वीएचपी का दफ्तर हुआ करता था, वह भवन एक ट्रस्ट की प्रॉपर्टी है. वीएचपी से हटाए जाने के बाद भी प्रवीण तोगड़िया इसी ऑफिस में रहते थे. हालांकि इस ट्रस्ट ने तोगड़िया को यह अपनी अनुमति दी थी कि वो यहां इसी ऑफिस में रह सकते हैं. लेकिन आज वीएचपी के कार्यकर्ता न सिर्फ ऑफिस के अंदर जबरन घुस गए बल्कि उन्होंने ऑफिस में तोड़फोड़ भी की.

वीएचपी के पूर्व अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने हिंदुत्व के एजेंडा को किनारे रख राजनीति करने वाली भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सामने अगले लोकसभा चुनाव में चुनौती देने के लिए शनिवार को राजनीति में अपनी एंट्री का ऐलान किया और हिंदुस्तान निर्माण दल नाम की नई राजनीतिक पार्टी घोषित की और कहा कि उनका पार्टी लोकसभा चुनाव लड़ेगी. 

इस बीच वणीकर भवन पर वीएचपी कार्यकर्ताओं के हंगामे के बाद इस भवन का कब्जा एक ट्रस्टी के जरिए वापस ले लिया गया. इस ट्रस्टी का कहना है कि प्रवीण तोगड़िया यहां से ट्रस्ट के विरोध में काम कर रहे हैं इसलिए उन्हें यहां से हटाया गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay