एडवांस्ड सर्च

बाढ़ प्रभावित बनासकांठा में नेताओं की 'बाढ़', पीड़ितों की मदद के बजाय हो रही राजनीति

बनासकांठा का हाल ये है कि जिधर नजर दौड़ाओ उधर ही तबाही का मंजर दिख रहा है. लोग खाने-पीने की चीजों के लिए तरस रहे हैं. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी बनासकांठा पहुंचे और बाढ़ ग्रस्त इलाकों में 5 दिन रहने का निर्णय किया. हालांकि बाढ़ पीड़ितों की मदद करने के बजाय मुख्यमंत्री कांग्रेस पर ज्यादा हमले कर रहे हैं.

Advertisement
aajtak.in
नंदलाल शर्मा बनासकांठा , 31 July 2017
बाढ़ प्रभावित बनासकांठा में नेताओं की 'बाढ़', पीड़ितों की मदद के बजाय हो रही राजनीति गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी

गुजरात में बाढ़ से तबाह हो गये इलाकों में अब नेताओं की बाढ़ आ गई है. एक के बाद एक नेता बाढ़ पीड़ितों से मिलने पहुंच रहे हैं. एक ओर जहां गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी रविवार को बनासकांठा आए तो वहीं कांग्रेस के अशोक गहलोत के साथ अहमद पटेल और भरत सिंह सोलंकी भी बनासकांठा आए और एक दूसरे पर राज्य सरकार पर जमकर किए.

बनासकांठा का हाल ये है कि जिधर नजर दौड़ाओ उधर ही तबाही का मंजर दिख रहा है. लोग खाने-पीने की चीजों के लिए तरस रहे हैं. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी बनासकांठा पहुंचे और बाढ़ ग्रस्त इलाकों में 5 दिन रहने का निर्णय किया. हालांकि बाढ़ पीड़ितों की मदद करने के बजाय मुख्यमंत्री कांग्रेस पर ज्यादा हमले कर रहे हैं.

कांग्रेस को ले डूबेंगी सोनिया गांधीः बीजेपी

रुपाणी ने कहा कि कांग्रेस राजनीति कर रही है. बीजेपी पर बेबुनियाद आरोप लगा रही है. कांग्रेस के विधायक इस विपदा में भी बंगलुरु में ऐश कर रहे हैं. सोनिया गांधी अपने पुत्र प्रेम में पूरी कांग्रेस को ले डूबेंगीं, राहुल गांधी के नेतृत्व में जितने भी चुनाव लड़े गये, वो सब हारे हैं. अहमद पटेल सब विधायकों का करियर खराब कर देंगे.

दूसरी ओर कांग्रेस के भरत सिंह सोलंकी और पार्टी के गुजरात प्रभारी अशोक गहलोत के साथ अहमद पटेल भी बनासकांठा पहुंचे. यहां अहमद पटेल ने केन्द्र सरकार और गुजरात सरकार पर जमकर प्रहार किए.

 

सरकार की लापरवाही से गई लोगों की जानः पटेल

बनासकांठा के बाढ़ ग्रस्त इलाकों का जायजा लेने आये अहमद पटेल ने कहा कि बाढ़ से भारी तबाही हुई है. प्रधानमंत्री यहाँ आए और हवाई दौरा करके चले गये, लेकिन उन्होंने जो सहायता की घोषणा की है. वो बहुत ही कम है. अगर सरकार अच्छा काम करती तो शायद इतने लोगों की जान न जाती.

कांग्रेस विधायकों को बंगलुरु ले जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि बाढ़ में सबसे पहले कांग्रेस के ही विधायकों ने कैंप शुरू किए थे. केन्द्र सरकार और गुजरात सरकार हमारे विधायकों और उनके परिवार वालों को परेशान कर रहे थे, इसलिए उन्हें बंगलुरु ले जाना पड़ा.

बीजेपी ने शुरू की हॉर्स ट्रेडिंग

कांग्रेस नेता ने कहा कि हॉर्स ट्रेडिंग की शुरुआत बीजेपी ने की और हमारे विधायकों को पैसे ऑफर किए. सरकार ने हमारे आदिवासी विधायकों को उठा लिया. उसमें प्रशासन ने भी साथ दिया. पूरी एजेंसी हमारे विधायकों के पीछे लगी थी. अभी भी कांग्रेस विधायकों के फोन चालू हैं और वो वहां से ही पूरे हालात पर नजर रखे हुए हैं. पार्टी के लोग यहां पीड़ित लोगों से मिलेंगे और उनके दुख में सहभागी बनेंगे.

स्थिति ये है कि एक तरफ बाढ़ पीड़ित मदद की आस लगाए बैठे हैं. दूसरी ओर बीजेपी और कांग्रेसी नेता एक दूसरे पर आरोप लगाने में ही अपना समय बिता रहे हैं. अब देखना यह होगा कि बाढ़ पीड़ितों को सहायता मिलती है कि सिर्फ बातें ही होती रहेंगी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay