एडवांस्ड सर्च

अहमदाबाद की अनूठी फुटपाथशाला, जहां बच्चों को मुफ्त मिलती है शिक्षा

फुटपाथ स्कूल में पढ़ाई के लिए आनेवाले बच्चे काफी गरीब परिवार से आते हैं, जिनके माता-पिता मजदूरी कर अपना गुजारा करते हैं. उनके बच्चे स्कूल से छुट्टी हो जाने का बाद कमल परमार के इस फुटपाथ स्कूल में पढ़ने के लिए आते हैं, ये स्कूल शाम 6 बजे से 9 बजे तक चलता है, जहां बच्चों को रात का खाना भी खिलाया जाता है.

Advertisement
aajtak.in
गोपी घांघर अहमदाबाद, 14 August 2019
अहमदाबाद की अनूठी फुटपाथशाला, जहां बच्चों को मुफ्त मिलती है शिक्षा फुटपाथ स्कूल

शिक्षा का दान सबसे बड़ा दान माना जाता है. यह बांटने से कम नहीं होता बल्कि बढ़ता है. इसी को सही साबित करते हुए अहमदाबाद के 72 साल के कमल परमार पिछले 18 साल से गरीब छात्रों को मुफ्त में पढ़ाने का काम कर रहे हैं. कमल परमार ने अपने घर के सामने फुटपाथ पर ही बेंच लागाकर 'फुटपाथ स्कूल' बना दिया है. फुटपाथ स्कूल में बच्चे पढ़ाई करने आते हैं. कमल परमार का खुद का एक कारखाना है जो पहले वो चलाते थे, लेकिन अब उनका बेटा चलाता है. कमल परमार न सिर्फ बच्चों को पढ़ाते हैं, साथ ही बच्चों को रात का खाना भी खिलाते हैं.

फुटपाथ स्कूल के विचार के बारे में जब हमने कमल परमार से पूछा तो उन्होंने बताया कि कुछ साल पहले, जब मैं अपने कारखाने से बाहर आ रहा था तो मैंने देखा कि कुछ बच्चे परीक्षा देकर आ रहे थे. इनके हाथ में पेपर और चेहरे पर खुशी थी. मैंने उन बच्चों से पूछा कि आप इतने खुश क्यों हो? बच्चों ने कहा कि हमारी परीक्षा अच्छी हुई है इसलिए हम खुश हैं. मैंने जब परीक्षा का पेपर हाथ में लेकर बच्चों से सवाल पूछे तब मुश्किल से एक सवाल का जबाव उन्हें पता था. उस वक्त मैंने सोचा कि इन बच्चों के लिए कुछ करना चाहिए. इसके बाद मैं गरीब बच्चों मुफ्त में पढ़ाने का काम करने लगा.

यहां पढ़ाई के लिए आनेवाले बच्चे काफी गरीब परिवार से आते हैं, जिनके माता-पिता मजदूरी कर अपना गुजारा करते हैं. उनके बच्चे स्कूल से छुट्टी हो जाने का बाद कमल परमार के इस फुटपाथ स्कूल में पढ़ने के लिए आते हैं, ये स्कूल शाम 6 बजे से 9 बजे तक चलता है, जहां बच्चों को रात का खाना भी खिलाया जाता है.

पढ़ाई के लिए आनेवाली एक छात्रा धारा सोगठिया ने कहा कि मेरी मम्मी घर का काम करती है, और पापा प्लम्बर का काम करते हैं. हमें यहां अच्छा पढ़ाते हैं. हिंदी, अंग्रेजी सब पढ़ाया जाता है. खाना भी खिलाते हैं इसलिए हम यहां पढ़ने के लिए आते हैं. कमलजी से पढ़े हुए बच्चे अब बड़े हो गए हैं. कोई डॉक्टर तो कोई इंजिनीयर बन गया है, अब वो भी कमलजी के इस काम में उनकी मदद करते हैं, और बच्चों को पढ़ाते हैं.

शुरुआत में कमल परमार अकेले थे लेकिन धीरे-धीरे लोगों को उनके इस काम के बारे में पता चला और लोग उनकी मदद के लिए आगे आए. हमारे देश में कमल परमार जैसे लोग एक मिसाल हैं जो समाज की दिशा बदलने का काम कर रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay