एडवांस्ड सर्च

गुजरात में बारिश ने मचाई तबाही, अलग-अलग हादसों में 24 लोगों की मौत

गुजरात में बारिश के कारण अलग-अलग हादसों में अब तक 24 लोगों की मौत हो चुकी है. राहत एवं बचाव टीमें लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने में जुटी हुई हैं.

Advertisement
aajtak.in
गोपी घांघर अहमदाबाद, 11 August 2019
गुजरात में बारिश ने मचाई तबाही, अलग-अलग हादसों में 24 लोगों की मौत बाढ़ की फाइल फोटो

देश के कई हिस्से भारी बारिश और बाढ़ की मार झेल रहे हैं. गुजरात में बारिश के कारण अलग-अलग हादसों में अब तक 24 लोगों की मौत हो चुकी है. राहत एवं बचाव टीमें लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने में जुटी हुई हैं.

भारतीय सेना और नौसेना की आपातकालीन प्रतिक्रिया टीमों ने पिछले सप्ताह भारी बारिश के बाद आई बाढ़ से प्रभावित महाराष्ट्र, गुजरात और दक्षिण भारतीय राज्यों में फंसे हजारों लोगों को बचाने के लिए अपने बचाव अभियान को और तेज कर दिया है.

हालांकि, भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने रविवार से बारिश में कमी आने की संभावना जताई है. आईएमडी ने कहा, "सौराष्ट्र और कच्छ के उत्तरी भागों में कम दबाव का स्तर है. गुजरात, केरल और कर्नाटक में बारिश रविवार से धीमी हो सकती है."

गुजरात में नर्मदा नदी का रौद्र रूप दिख रहा है. बांध के ऊपर से बहते पानी से 100 से ज्यादा गांवों डूबने का खतरा पैदा हो गया है. नर्मदा के लबालब होने के बाद सरदार सरोवर बांध के 4 गेट खोले गए हैं. यहां से 1 लाख क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है. सरदार सरोवर डैम से छोड़े पानी से गुजरात पर खतरा मंडराने लगा है. 

मोरबी में हालत पहले ही खराब है. पानी कई इलाकों में भर आया है. ऐसे में पुलिस के जवान लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं. मोरबी में ही NDRF की टीम ने कस्तूरबा गांधी स्कूल के 47 बच्चों और 6 शिक्षकों को बचाया. ये सभी उफनती लहरों में फंसे थे.

रस्सी की मदद से NDRF ने एक-एक कर सभी को सुरक्षित ठिकानों पर पहुंचाया. मोरबी जैसे ही हालात सूबे के दूसरे हिस्सों का भी है. कराड नदी पूरे उफान पर है. गरजती-उफनती लहरों का तांडव जारी है.

सुरेंद्रनगर में मूसलाधार बारिश से बाढ़ जैसे हालात हो गए हैं. इलाके की फलकु नदी की लहरों में कुछ लोग गुम हो गए हैं. भारतीय वायुसेना ने तीन लोगों को सुरक्षित बचा लिया जबकि, कुछ लापता हैं. रेस्क्यू ऑपरेशन में वायुसेना का हेलीकॉप्टर भी लगाया गया है. मूसलाधार बारिश के चलते यहां एनएच 8 पर इतना पानी भर गया कि इस पर सफर करने का मतलब जान जोखिम में डालना है.

सिर्फ हाईवे ही नहीं, शहरी इलाकों और कस्बों का भी हाल कुछ ऐसा ही है. सड़कों पर दरिया लहरा रहा है और लोगों को इस आफत से पार पाने का कोई रास्ता नहीं दिख रहा. भचाऊ के पास भारी बारिश में 700 मीटर रेल ट्रैक बह जाने की खबर है जिससे रेल सेवा प्रभावित हुई.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay