एडवांस्ड सर्च

14 साल के बच्चे को मगरमच्छ ने जबड़े में दबोचा, दोस्तों ने कुछ यूं बचाई जान

संदीप कमलेश परमार और उसके दोस्त साबरकांठा के गुणभखारी गांव में एक नदी में तैरने गए थे. तभी एक मगरमच्छ ने संदीप के पैर को अपने जबड़े में दबोच लिया.

Advertisement
गोपी घांघर [Edited By: हिमांशु कोठारी]साबरकांठा, 15 May 2019
14 साल के बच्चे को मगरमच्छ ने जबड़े में दबोचा, दोस्तों ने कुछ यूं बचाई जान 14 साल के बच्चे पर मगरमच्छ ने हमला कर दिया

गुजरात में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है. यहां एक 14 साल के बच्चे पर मगरमच्छ ने हमला कर दिया. इस दौरान बच्चे को कई गंभीर चोटें आईं. गुजरात के साबरकांठा जिले में 14 साल के एक लडके को मगरमच्छ ने पकड़ लिया. गनीमत ये रही कि वहीं पास में खेल रहे उसके दोस्तों को उसके चिल्लाने कि आवाज आई तो वो तुंरत वहां पहुंचे और अपने दोस्त को सतर्कता से बचा लिया.

दरअसल, संदीप कमलेश परमार और उसके दोस्त साबरकांठा के गुणभखारी गांव में एक नदी में तैरने गए थे. तभी एक मगरमच्छ ने संदीप के पैर को अपने जबड़े में दबोच लिया. जिंदगी की जद्दोजहद कर रहा संदीप मदद के लिए चीखा तो उसके दोस्त उसकी ओर दौड़े. उसके दोस्तों ने देखा की मगरमच्छ ने संदीप को पकड़ रखा है. जिसके बाद उसके दोस्तों ने संदीप को बचाने की कोशिश की. इस दौरान दोस्तों ने मगरमच्छ पर पत्थर फेंकने शुरू किए. जिसके बाद मगरमच्छ ने संदीप का पैर छोड़ दिया और उसके दोस्त उसे नदी किनारे लाए.

मगरमच्छ के जरिए पकड़े जाने पर संदीप को पैर में काफी चोटें आई हैं. जिसके बाद संदीप को तुरंत अस्पताल ले जाया गया. संदीप को खेड़ब्रह्म शहर में सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां उसकी हालत पहले से सही बताई जा रही है. अस्पताल में संदीप का ट्रीटमेंट करने वाले डॉ. अश्विन गढवी का कहना है कि संदीप के घुटने के नीचे की हड्डी बुरी तरह टूट गई है. साथ ही उन्होंने संदीप की जान बचाने के लिए उसके सतर्क दोस्तों की तारीफ की. वहीं इस पूरे मामले में संदीप के दोस्तों के हौसले को हर कोई सलाम कर रहा है क्योंकि मगरमच्छ के सामने जिस तरह से उसके दोस्तों ने हिम्मत दिखाते हुए संदीप की जान बचा ली, वह वास्तव में काबिले तारीफ है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay