एडवांस्ड सर्च

गुजरात: कोरोना संकट के बीच कांग्रेस को ऑपरेशन लोटस का भी डर

कोरोना संक्रमण के चलते गुजरात की चार राज्यसभा सीटों पर चुनाव भले ही स्थगित हो गए हैं. इसके बाद भी कांग्रेस की चिंता कम नहीं हुई है. कांग्रेस को अपने विधायकों को कोरोना के साथ-साथ बीजेपी के ऑपरेशन लोट्स से भी बचाए रखने की चिंता सता रही है.

Advertisement
aajtak.in
कुबूल अहमद नई दिल्ली, 27 March 2020
गुजरात: कोरोना संकट के बीच कांग्रेस को ऑपरेशन लोटस का भी डर गुजरात में कांग्रेस के राज्यसभा प्रत्याशी भरत सिंह सोलंकी और शक्ति सिंह गोहिल

  • गुजरात में फिलहाल राज्यसभा चुनाव स्थगित
  • कांग्रेसी विधायक जयपुर से अहमदाबाद पहुंचे

देश भर में लॉकडाउन के बीच कांग्रेस विधायक राजस्थान के जयपुर रिजॉर्ट से गुजरात अपने-अपने घरों को पहुंच चुके हैं. कोरोना संक्रमण के चलते गुजरात की चार राज्यसभा सीटों पर चुनाव स्थगित हो गए हैं. इसके बाद भी कांग्रेस की चिंता कम नहीं है. कांग्रेस को अपने विधायकों को कोरोना के साथ-साथ बीजेपी के ऑपरेशन लोट्स से भी बचाए रखने की चुनौती है.

दरअसल राज्यसभा चुनाव के ऐलान के साथ ही कांग्रेस विधायकों के टूटने का सिलसिला शुरू हो गया था. पांच विधायकों के इस्‍तीफे से चिंतित कांग्रेस ने अपने सभी विधायकों को ऑपरेशन लोट्स से बचाए रखने के लिए जयपुर के एक रिजॉर्ट में पहुंचा दिया था. माना जा रहा था कि कांग्रेस इन्हें मतदान के दिन ही अहमदाबाद वापस लाएगी.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

कोरोना संक्रमण और देशभर में 14 अप्रैल तक लॉकडाउन है. 26 मार्च को राज्यसभा का होने वाला चुनाव स्थगित हो गया है जो अब लॉकडाउन खत्म होने के बाद ही होगा. ऐसे में इतने लंबे समय तक कांग्रेस के लिए अपने विधायकों को जयपुर में रखना संभव नहीं था, जिसके चलते उन्हें पार्टी वापस गुजरात तो ले आई है, लेकिन चिंता का सबब अभी भी बना हुआ है.

दरअसल गुजरात की चार राज्यसभा सीटों पर पांच उम्मीदवारों के मैदान में होने से कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ गई हैं. बीजेपी की ओर राज्यसभा के लिए अभय भारद्वाज और रमीवा बेन बारा के साथ तीसरे कैंडिडेट के तौर पर नरहरि अमीन मैदान में हैं तो कांग्रेस की ओर से राज्यसभा के लिए शक्ति सिंह गोहिल और भरत सिंह सोलंकी किस्मत आजमा रहे हैं. ऐसे में कांग्रेस को क्रॉस वोटिंग का खतरा है.

बीजेपी के पास 103 विधायक हैं तो पांच विधायकों के इस्तीफे के बाद कांग्रेस के विधायकों की संख्या 68 बची है. वहीं, दो सीटें बीटीपीटी के पास हैं. एक एनसीपी और एक निर्दलीय विधायक हैं. इसके अलावा दो सीटें रिक्त हैं. राज्यसभा के एक सदस्य को जीतने के लिए कम से कम 36 वोटों की जरूरत है. इसके लिए कांग्रेस और बीजेपी के बीच शह-मात का खेल जारी है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

ऐसे में कांग्रेस विधायकों के गुजरात आने को बीजेपी अपनी रणनीतिक जीत के रूप में देख रही है. बीजेपी को कांग्रेस विधायकों से संपर्क करने का मौका मिल सकता है. कांग्रेस के और विधायक बीजेपी के पाले में जा सकते हैं, इससे भाजपा खेमा जहां खुश है वहीं कांग्रेस के खेमे में चिंता व्‍याप्‍त हो गई है. हालांकि, कांग्रेस के प्रदेश अध्‍यक्ष अमित चावड़ा का दावा है कि कांग्रेस विधायक एकजुट हैं. बीजेपी इस स्थिति में भी राजनीति करने का प्रयास कर रही है, लेकिन वो कामयाब नहीं होगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay