एडवांस्ड सर्च

बची रहेगी रूपाणी की कुर्सी, 2019 तक नेतृत्व में बदलाव नहीं चाहती BJP

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि चुनाव रूपाणी के नेतृत्व में लड़ा जाएगा. ऐसे में अब केंद्रीय नेतृत्व रूपाणी में भरोसा जता रहा है. केंद्रीय मंत्री अरूण जेटली और पार्टी की महासचिव सरोज पांडे को चुनाव के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया है और केंद्र के ये दोनों नेता मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा से पहले विधायकों के साथ बैठक करेंगे.

Advertisement
aajtak.in
अनुग्रह मिश्र नई दिल्ली, 20 December 2017
बची रहेगी रूपाणी की कुर्सी, 2019 तक नेतृत्व में बदलाव नहीं चाहती BJP जीत के बाद मिठाई खाते रूपाणी

गुजरात विधानसभा बीजेपी को मिली जीत के बाद नई सरकार के गठन की कवायद तेज हो गई है. गुजरात के नवनिर्वाचित बीजेपी विधायक अपने नेता और राज्य के अगले मुख्यमंत्री के चयन के लिए 22 दिसंबर को गांधीनगर में कर सकते हैं. मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल 22 जनवरी 2018 को खत्म होने जा रहा है.

नतीजों के बाद ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि पार्टी किसी नए चेहरे को सीएम पद पर बैठा सकती है. इन चेहरों में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी से लेकर मनसुख मांडविया और पुरुषोत्तम रूपाला का नाम चल रहा था. लेकिन अब ऐसा माना जा रहा है कि 2019 के आम चुनावों तक पार्टी कोई नया प्रयोग करने के प्रयास नहीं करेगी और वियज रूपाणी की कुर्सी कायम रहेगी.  

छोटे अंतर से मिली जीत

वर्तमान मुख्यमंत्री विजय रूपाणी का सीएम पद के दावेदारों में सबसे आगे हैं लेकिन पीएम नरेंद्र मोदी के गढ़ में जीत का अंतर कम होने की वजह से रूपाणी के फिर से चुने जाने पर संदेह के बादल मंडरा रहे थे. गुजरात की 182 सदस्यीय विधानसभा में बीजेपी ने सरकार बनाने के लिए जरूरी 92 के जादुई आंकड़े से महज सात सीटें अधिक, कुल 99 सीटें जीती हैं. बीते कई चुनावों के मुकाबले में यह बीजेपी की सबसे कम सीटें हैं.

जेटली करेंगे मंथन

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने चुनाव प्रचार के दौरान कहा था कि चुनाव रूपाणी के नेतृत्व में लड़ा जाएगा. ऐसे में अब केंद्रीय नेतृत्व रूपाणी में भरोसा जता रहा है. केंद्रीय मंत्री अरूण जेटली और पार्टी की महासचिव सरोज पांडे को चुनाव के लिए केंद्रीय पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया है और केंद्र के ये दोनों नेता मुख्यमंत्री के नाम की घोषणा से पहले विधायकों के साथ बैठक करेंगे.

रूपाणी ही नहीं डिप्टी सीएम नितिन पटेल की कुर्सी भी बरकरार रह सकती है. लेकिन पार्टी सूत्रों की मानें तो इस बार कैबिनेट में कई नए चेहरों को जगह दी जाएगी. नए मुख्यमंत्री का शपथ ग्रहण समारोह सोमवार को साबरमती नदी के किनारे हो सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay