एडवांस्ड सर्च

सौर घोटाले पर न्यायिक रिपोर्ट से गरमाई केरल की सियासत, ओमान चांडी घिरे

केरल की राजनीति में भूचाल लाने वाले सोलर घोटाले पर गुरुवार को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया गया. इस सत्र में मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने घोटाले की जांच के लिए बनाई गई न्यायिक आयोग की रिपोर्ट पेश की. विजयन ने बताया कि रिपोर्ट में कहा गया है कि पूर्व मुख्यमंत्री ओमान चांडी और उनके कर्मचारियों ने सरिता एस नायर और उनकी कंपनी को लोगों से धोखाधड़ी करने के लिए मदद पहुंचाई.

Advertisement
aajtak.in
राहुल विश्वकर्मा/ जीमोन जैकब तिरुअनंतपुरम, 09 November 2017
सौर घोटाले पर न्यायिक रिपोर्ट से गरमाई केरल की सियासत, ओमान चांडी घिरे केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (फाइल फोटो)

केरल की राजनीति में भूचाल लाने वाले सोलर घोटाले पर गुरुवार को विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया गया. इस सत्र में मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने घोटाले की जांच के लिए बनाई गई न्यायिक आयोग की रिपोर्ट पेश की. विजयन ने बताया कि रिपोर्ट में कहा गया है कि पूर्व मुख्यमंत्री ओमान चांडी और उनके कर्मचारियों ने सरिता एस नायर और उनकी कंपनी को लोगों से धोखाधड़ी करने के लिए मदद पहुंचाई. केरल विधानसभा के इतिहास में ऐसा पहली बार है जब न्यायिक आयोग की रिपोर्ट पेश करने के लिये विशेष सत्र बुलाया गया.

पहली बार विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया गया

विधानसभा के विशेष सत्र में सदन के पटल पर न्यायमूर्ति जी श्रीवराजन द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट और इस मामले में सरकार की ओर से की गई कानूनी कार्रवाई के बारे में मुख्यमंत्री ने बताया. उन्होंने कहा कि आयोग ने पाया कि पूर्व मुख्यमंत्री चांडी और उनके निजी कर्मचारियों ने सौर घोटाले की आरोपी सरिता एस नायर और उनकी कंपनी को उपभोक्ताओं से धोखाधड़ी करने के लिये हर तरह की मदद मुहैया कराई.

जांच के लिए एसआईटी का गठन

विजयन ने कहा कि उनकी सरकार ने डीजीपी राजेश धवन की अगुवाई में एसआईटी का गठन किया है, जो इस मामले की जांच करेगी. उन्होंने कहा कि यह टीम पूर्व मुख्यमंत्री ओमान चांडी पर लगे आरोपों के साथ-साथ यूडीएफ के पूर्व मंत्रियों, पूर्व और वर्तमान विधायकों के अलावा सांसदों की भी जांच करेगी.

सभी दोषियों पर होगी कार्रवाई

मुख्यमंत्री ने यह भी बताया कि सोलर घोटाले की जांच करने के लिए डीजीपी ए हेमचंद्रन की अगुवाई में बनाई गई टीम पर दोषियों को बचाने के आरोप में विजिलेंस जांच के साथ-साथ क्रिमिनल एक्ट में भी कार्रवाई की जाएगी. मुख्यमंत्री ने सदन में मौजूद सभी सदस्यों को विश्वास दिलाते हुए कहा कि हम अपने वादे के मुताबिक सभी को न्याय दिलाएंगे. साथ ही सभी दोषियों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

नेता विपक्ष ने लगाया आरोप

वहीं सत्र में नेता विपक्ष रमेश चेन्नीथला ने न्यायिक आयोग की रिपोर्ट पर सवाल उठाते हुए कहा कि एलडीएफ सरकार ओमान चांडी को यौन उत्पीड़न के केस में फंसाने की कोशिश कर रही है. उन्होंने कहा कि इस मसले को वे केरल की जनता के बीच लेकर जाएंगे.

यौन उत्पीड़न में चांडी का नाम लेकर घिरे रमेश

इस दौरान चेन्नीथला ने यौन उत्पीड़न मामले में ओमान चांडी का नाम ले लिया. इस पर पलटवार करते हुए मुख्यमंत्री विजयन ने कहा कि आयोग की रिपोर्ट का जिक्र करते हुए उन्होंने यौन उत्पीड़न मामले में ओमान चांडी का नाम ही नहीं लिया. उन्होंने पूर्व सीएम का नाम लेने पर रमेश चेन्नीथला की मंशा पर ही सवाल उठा दिया. उन्होंने दोहराया कि उनकी सरकार की प्राथमिकता सभी को समान रूप से न्याय दिलाना है.  

क्या है सोलर स्कैम

केरल में टीम सोलर एनर्जी के सर्वेसर्वा बीजू राधाकृष्णन और सरिता एस नायर ने पिछली सरकार के कार्यकाल में सत्ता में प्रभावशाली लोगों तक पहुंच बनाने के लिए महिलाओं का प्रयोग किया. आरोपों के मुताबिक इसमें पूर्व मुख्यमंत्री ओमान चांडी तक शामिल थे. सौर घोटाले में सरकारी मशीनरी का फायदा उठाते हुए लोगों से करोड़ों रुपये की ठगी की गई थी. यह घोटाला उस समय सामने आया जब एक ग्राहक ने इस कंपनी के खिलाफ केस दर्ज कराया था. आरोप है कि बीजू और सरिता ने तत्कालीन सरकार में ठेके हासिल करने के लिए कई बड़े नामों का इस्तेमाल किया.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay