एडवांस्ड सर्च

सहूलियतः 5 रुपए देकर दिल्ली के रेस्टोरेंट में यूज कर सकेंगे वॉशरूम

अगर आप साउथ दिल्ली में हैं और पब्लिक टॉयलेट यूज करने की जरूरत है तो आपको इधर-उधर तलाश करने की जरूरत नहीं है. दक्षिण दिल्ली नगरपालिका (SDMC) ने नियम बनाया है कि अगले महीने से इलाके के किसी भी रेस्टोरेंट-होटल में वॉशरूम का आप भी इस्तेमाल कर सकेंगे. पे एंड यूज की तर्ज पर महज 5 रुपए दे कर आप ये सहूलियत ले सकेंगे.

Advertisement
aajtak.in [edited by: रु़चिका सैनी़]नई दिल्ली, 15 March 2017
सहूलियतः 5 रुपए देकर दिल्ली के रेस्टोरेंट में यूज कर सकेंगे वॉशरूम दिल्ली के होटलों के वॉशरूम बदलेंगे पब्लिक टॉयलेट्स में

अगर आप साउथ दिल्ली में हैं और पब्लिक टॉयलेट यूज करने की जरूरत है तो आपको इधर-उधर तलाश करने की जरूरत नहीं है. किसी भी रेस्त्रां या होटल में चले जाइए. दक्षिण दिल्ली नगरपालिका (SDMC) ने नियम बनाया है कि अगले महीने से इस इलाके के किसी भी रेस्टोरेंट-होटल में वॉशरूम का आप भी इस्तेमाल कर सकेंगे. पे एंड यूज की तर्ज पर महज 5 रुपए दे कर आप ये सहूलियत पा सकेंगे.

कितने फायदे की है ये सहूलियत
साउथ दिल्ली में ये नियम अप्रैल से लागू हो जाएगा. इससे इन इलाकों में लोगों के इस्तेमाल के लिए और 4 हजार टॉयलेट्स का ऑप्शन बढ़ जाएगा.

क्यों उठाया जा रहा है ये कदम?
SDMC ने कहा कि इन होटलो में हेल्थ ट्रेड लाइसेंस जारी किए जाएंगे, जिससे इस कदम को एक नियम की तरह लागू किया जा सके. SDMC के वर्कर्स ने बताया कि होटलों के टॉयलेट्स को पब्लिक टॉयलेट में बदलने का सुझाव दिल्ली के एलजी अनिल बैजल ने दिया था.

महिलाओं को मिलेगा सबसे ज्यादा फायदा
SDMC के आयुक्त पुनीत कुमार गोयल ने कहा कि ये कदम उन महिलाओं के लिए फायदेमंद होगा जिन्हें बाजार में टॉयलेट्स की कमी के कारण दिक्कत झेलनी पड़ती है. गोयल ने बताया, 'SDMC ने 4,586 हेल्थ ट्रेड लाइसेंस जारी किए हैं. इनमें से तो ऐसी जगह भी हैं जहां हाल फिलहाल टॉयलेट्स नहीं है. यहां करीब 4 हजार से ज्यादा होटल-रेस्टोरेंट्स हैं, जिनमें टॉयलेट्स हैं. सबका मेंटेनेंस चार्ज होटलों के हिसाब से अलग-अलग होता है लेकिन हमने फिर भी इसे 5 रुपये ही रखा है ताकि सारे वर्ग के लोग इससे फायदा पा सकें.

इस फैसले से होटल मालिक नाराज
हालांकि, SDMC के इस फैसले से रेस्तरां प्रबंधन नाखुश बताया जा रहा है. उनका कहना है कि उन पर ये कदम थोपा गया है. इंडियन रेस्तरां एसोसिएशन के अध्यक्ष रियाज अमलानी ने कहा कि इससे सुरक्षा का मुद्दा भी उठ सकता है. उन्होंने कहा, 'इस कदम के पीछे के मकसद की मैं प्रशंसा करता हूं. अब लोगों को सिर्फ टॉयलेट इस्तेमाल करने के लिए हमारा खाना नहीं खरीदना पड़ेगा. लेकिन प्राइवेट कंपनियों पर ये जबरन थोपने वाली बात हो गई. हम आगे देखेंगे की कहीं इससे हमारे सुरक्षा के मौलिक अधिकारों का उलंघन तो नहीं हो रहा.'


आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay