एडवांस्ड सर्च

एनजीटी में उत्तरी दिल्ली एमसीडी का दुखड़ा- नोटिस के बावजूद जुर्माना नहीं देते हैं लोग

नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल में वायु प्रदूषण के मामले में सुनवाई के दौरान उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने अपना दुखड़ा रोया. निगम ने ट्रिब्युनल से कहा कि हमारे नोटिस के बाद भी लोग 50 हजार रुपये का जुर्माना नहीं दे रहे हैं.

Advertisement
पूनम शर्मा [Edited By: केशव कुमार]नई दिल्ली, 18 May 2016
एनजीटी में उत्तरी दिल्ली एमसीडी का दुखड़ा- नोटिस के बावजूद जुर्माना नहीं देते हैं लोग एनजीटी ने पहले दिल्ली सरकार को लगाई थी फटकार

नेशनल ग्रीन ट्रिब्युनल में वायु प्रदूषण के मामले में सुनवाई के दौरान उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने अपना दुखड़ा रोया. निगम ने ट्रिब्युनल से कहा कि हमारे नोटिस के बाद भी लोग 50 हजार रुपये का जुर्माना नहीं दे रहे हैं. एनजीटी के आदेश पर निगम ने इलाके में निर्माण कार्यों के दौरान धूल फैलाने पर 50 हजार रुपये का जुर्माना तय किया था.

निगम के नोटिस के बावजूद नहीं चुकाया जुर्माना
एनजीटी ने निर्देश दिया था कि 50 गज वाले मकान मालिकों से पांच हजार और 51 गज से 200 गज तक मकान मालिकों से दस हजार जुर्माना लिया जाए. इसके बाद भी निगम के नोटिस पर लोगों ने जुर्माना नहीं चुकाया.

वायु प्रदूषण पर दिल्ली सरकार को लग चुकी है फटकार
एनजीटी ने दो मई को वायु प्रदूषण पर सुनवाई करते हुए दिल्ली सरकार को राजधानी में कूड़ा जलाने और धुआं को लेकर फटकार लगाई थी. स्वतंत्र कुमार की अध्यक्षता वाली पीठ ने साफ कहा था कि हम आपको मिथेन और कार्बन जैसी हानिकारक गैस पैदा करने की इजाजत नहीं दे सकते.

एनजीटी के निर्देशों पर निगम ने लगाया जुर्माना
ट्रिब्युनल ने पूछा था कि धुएं और नगर निगम के ठोस कचरा जलाने से होने वाले प्रदूषण को नियंत्रित करने में निगम सक्रियता क्यों नहीं दिखाती. धूल उड़ाने वाले निर्माण कार्य करने वाले बिल्डरों को इन नियमों का उल्लंघन करने पर काबू क्यों नहीं किया जाता.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay