एडवांस्ड सर्च

Advertisement

बदल रहा JNU का इतिहास, 46 साल बाद होगा दीक्षांत समारोह

पढ़ाई में अपने आक्रामक तेवर के लिए पहचाने जाने वाले जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी भी अपना इतिहास बदल रहा है और वह 46 साल के लंबे इंतजार के बाद पहली बार दीक्षांत समारोह का आयोजन करने वाला है
बदल रहा JNU का इतिहास, 46 साल बाद होगा दीक्षांत समारोह जेएनयू कैंपस (फाइल फोटो)
aajtak.in[Edited By: सुरेंद्र कुमार वर्मा]नई दिल्ली, 29 January 2018

बदलते माहौल में काफी कुछ बदल रहा है, कई पुरानी चीजें फिर से शुरू की जा रही हैं. इन्हीं में से एक है देश के प्रतिष्ठित यूनिवर्सिटीज में से एक जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) में दीक्षांत समारोह का 46 साल बाद शुरू होना.

अमूमन हर यूनिवर्सिटी में सलाना या फिर नियमित अंतराल पर दीक्षांत समारोह का आयोजन कराया जाता है, लेकिन राष्ट्रीय राजधानी में स्थित जेएनयू ने 46 साल पहले दीक्षांत समारोह देखा और उसके बाद से लेकर अब तक यह समारोह नहीं कराया गया.

जेएनयू में पहला और आखिरी बार दीक्षांत समारोह 1972 में आयोजित कराया गया था. इस दीक्षांत समारोह में प्रख्यात फिल्म और थिएटर कलाकार बलराज साहनी को आमंत्रित किया गया, जहां उन्होंने प्रेरक भाषण दिया था.

हालांकि जेएनयू में बहुप्रतिक्षित दीक्षांत समारोह की तारीखों का ऐलान नहीं किया गया है. यूनिवर्सिटी की ओर से 21 जनवरी को जारी नोटिफिकेशन में जेएनयू का दूसरा दीक्षांत समारोह कराए जाने की बात कही गई है जिसमें सिर्फ पीएचडी डिग्रीधारकों को डिग्री प्रदान की जाएगी. नोटिफिकेशन में कहा गया है कि यह दीक्षांत समारोह फरवरी के अंतिम हफ्ते या फिर मार्च के पहले हफ्ते में आयोजित किया जाएगा. समारोह की तारीख का ऐलान जल्द ही किया जाएगा. अगले साल से अन्य डिग्रीधारकों को भी इस समारोह में शामिल किया जाएगा.

द हिंदू के अनुसार, पहले दीक्षांत समारोह को कई छात्रों ने शिक्षा नीति के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन का जरिया बनाया. उन्होंने विरोध करते हुए अपनी डिग्री जलाने, समारोह का बहिष्कार और कई अन्य चीजें करने की धमकी की. छात्र नहीं चाहते थे कि यहां किसी मंत्री को बुलाया जाए.

उस दीक्षांत समारोह के लिए वाइस चांसलर ने यह सुनिश्चित किया कि कैंपस में मंत्री या किसी मेहमान को नहीं बुलाया जाना चाहिए. लेकिन अभिनेता बलराज साहनी को बतौर मेहमान बुलाया गया. छात्रों ने कहा कि अगर मेहमान बोलते हैं तो छात्र संघ का अध्यक्ष भी भाषण देगा.

काफी बातचीत के बाद वाइस चांसलर इस पर सहमत हुए कि छात्र संघ का अध्यक्ष भी भाषण दे सकता है, लेकिन उसने अपना भाषण डीन से पास कराना होगा. लेकिन छात्र संघ के अध्यक्ष ने वो भाषण बदल दिया और अपने मन से भाषण दिया. इस घटना के बाद फिर से इस यूनिवर्सिटी में कोई दीक्षांत समारोह नहीं कराया गया.

एचटी में छपी खबर के अनुसार, जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्षा गीता कुमारी ने कहा है कि उन्हें दीक्षांत समारोह से कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन किस तरह के मेहमानों को बुलाया जाता है यह उस पर निर्भर करता है. एक छात्र का कहना है कि क्या कैंपस में इस साल इतिहास दोहराया जाएगा.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay