एडवांस्ड सर्च

Advertisement

सरकार बनाने में और कितना लगेगा वक्त?

दिल्ली में कांग्रेस के सहयोग से आम आदमी पार्टी सरकार बनाएगी या नहीं, इस पर स्थिति रविवार रात या फिर सोमवार तक ही साफ हो पाएगी. लेकिन केंद्रीय गृह मंत्रालय राजधानी में सरकार बनाने में हो रही देरी को लेकर हरकत में आ गया है.
सरकार बनाने में और कितना लगेगा वक्त? अरविंद केजरीवाल
आज तक ब्‍यूरो [Edited By: संदीप कुमार सिन्हा]नई दिल्ली, 19 December 2013

दिल्ली में कांग्रेस के सहयोग से आम आदमी पार्टी सरकार बनाएगी या नहीं, इस पर स्थिति रविवार रात या फिर सोमवार तक ही साफ हो पाएगी. लेकिन केंद्रीय गृह मंत्रालय राजधानी में सरकार बनाने में हो रही देरी को लेकर हरकत में आ गया है.

केंद्रीय गृह मंत्री सुशील शिंदे ने दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग से पूछा है कि अरविंद केजरीवाल से पूछा जाये कि आम आदमी पार्टी कब तक सरकार बना रही है. उन्हें सरकार बनाने के लिए और कितना वक्त चाहिए.

दिल्ली में सरकार गठन के सवाल पर सुशील शिंदे ने कहा, 'उपराज्यपाल ने अलग-अलग विकल्पों के बारे में हमें बताया. गठबंधन की सरकार बनाने के लिए सहमति बनाने में समय तो लगता है. मैंने उपराज्यपाल जी से केजरीवाल से पूछने को कहा है कि उन्हें सरकार बनाने में और कितना वक्त लगेगा. थोड़ा वक्त तो लगता ही है. केजरीवाल को बात करने की सुविधा मिलनी चाहिए. कांग्रेस ने उन्हें बिना शर्त समर्थन दिया है.'

आपको बता दें कि दिल्ली में चुनाव के नतीजे तो 8 दिसंबर को ही आ गए थे लेकिन जनता अभी भी सरकार के लिए तरस रही है. दरअसल, इन चुनावों में किसी भी पार्टी को बहुमत नहीं मिला. हालांकि ऐन मौके पर कांग्रेस ने आम आदमी पार्टी को बाहर से समर्थन देकर सरकार गठन की संभावनाओं को बढ़ा दिया.

लेकिन चुनाव प्रचार में बीजेपी या कांग्रेस से न समर्थन लेने और न देने की बात कहने वाले केजरीवाल के लिए इस विकल्प पर सीधा हामी भरना आसान नहीं था. इसके बाद, उन्होंने 18 शर्तों का दांव खेला जिसपर कांग्रेस ने जवाब दिया कि 16 शर्तें प्रशासनिक मामले से जुड़े हैं इसमें हमारे समर्थन की जरूरत नहीं. जवाब के बावजूद केजरीवाल ज्यादा उत्साहित नहीं नजर आए. वे एक बार फिर दिल्ली की जनता से राय ही मांग रहे हैं. केजरीवाल कहते हैं कि अब यह जनता को तय करना है कि AAP को कांग्रेस के समर्थन से सरकार बनानी चाहिए या नहीं.

रायशुमारी से बनेगी सरकार
केजरीवाल ने ऐलान किया कि AAP अब जनमत संग्रह करवाएगी. उन्होंने कहा, 'हम रविवार तक सरकार बनाने के मुद्दे पर जनता की राय लेंगे. इसके लिए दिल्ली की जनता को चिट्ठी लिखेंगे. कुल 25 लाख चिट्ठियां पूरे दिल्ली में बांटी जाएंगी. इस पर जवाब देने का समय रविवार तक समय रहेगा. चिट्ठी ही नहीं दिल्ली के लोग एसएमएस, मिस कॉल, फेसबुक और ट्विटर के जरिए भी अपनी राय भेज सकते हैं.'

आम आदमी पार्टी की इस पहल पर जनता ने अपना जवाब भेजना शुरू कर दिया है. जानकारी के मुताबिक अब तक करीब 5 लाख लोगों ने अपनी राय बता दी है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay