एडवांस्ड सर्च

DTC बसों में फ्री सफर पर खर्च होंगे 314 करोड़, महिलाओं को मिलेगा पिंक पास

कैलाश गहलोत ने फ्री सफर से सरकार के खर्च की जानकारी देते हुए कहा कि महिलाओं को बसों में मुफ्त सफर कराने के लिए डीटीसी बसों का 200 करोड़ और क्लस्टर बसों का 114 करोड़ रुपये का सालाना खर्च आएगा.

Advertisement
aajtak.in
पंकज जैन नई दिल्ली, 17 August 2019
DTC बसों में फ्री सफर पर खर्च होंगे 314 करोड़, महिलाओं को मिलेगा पिंक पास DTC और क्लस्टर बसों में महिलाओं के लिए 29 अक्टूबर से यात्रा मुफ्त (सांकेतिक तस्वीर)

राजधानी दिल्ली में डीटीसी और क्लस्टर बसों में महिलाओं के फ्री सफर के लिए अगले हफ्ते कैबिनेट की बैठक में प्रस्ताव आ सकता है. परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत के मुताबिक इससे संबंधित कैबिनेट नोट तैयार कर लिया गया है. 15 अगस्त को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ऐलान किया था कि दिल्ली की डीटीसी और क्लस्टर बसों में महिलाओं के लिए 29 अक्टूबर से यात्रा मुफ्त होगी.

'आजतक' के खास बातचीत में परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कई अहम जानकारियां साझा की हैं. उन्होंने बताया कि दिल्ली में लगभग 3500 डीटीसी और 1500 क्लस्टर बसें हैं. डीटीसी बसों में रोजाना 31 लाख और क्लस्टर बसों में 12 लाख यात्री सफर करते हैं. इन 43 लाख कुल यात्रियों में से औसतन 33 प्रतिशत को महिला यात्री माना जाता है.

कैलाश गहलोत ने फ्री सफर से सरकार के जरिए खर्च की जानकारी देते हुए कहा कि महिलाओं को बसों में मुफ्त सफर कराने के लिए डीटीसी बसों का 200 करोड़ और क्लस्टर बसों का 114 करोड़ रुपये का सालाना खर्च आएगा. यह कुल 314 करोड़ रुपये सरकार देगी. साथ ही मंत्री कैलाश गहलोत ने बताया कि हर बस यात्रा के लिए महिलाओं को गुलाबी रंग का पास दिया जाएगा.

नई बसें आएंगी

हालांकि यहां सबसे बड़ा सवाल है कि मुफ्त सफर के ऐलान से अगर बसों में भीड़ बढ़ती है तो सरकार के पास क्या इंतजाम हैं? सवाल के जवाब में मंत्री कैलाश गहलोत ने 'आजतक' से कहा, सरकार का मानना है कि राइडरशिप बढ़नी चाहिए, ये फैसला महिला सुरक्षा से जुड़ा हुआ है. पब्लिक ट्रांसपोर्ट को दुनिया में सबसे सुरक्षित साधन माना जाता है. महिलाएं डीटीसी और क्लस्टर बसों में खुद को सुरक्षित महसूस करती हैं. अगर फैसला लागू होने के बाद भीड़ बढ़ती है तो उसके लिए भी सरकार तैयार है. नई बसें अगले महीने से दिल्ली की सड़कों पर आने लगेंगी.

मंत्री कैलाश गहलोत ने दावा किया है कि दिल्ली में इस साल स्टैंडर्ड फ्लोर बसें आना शुरू हो जाएंगी. गहलोत ने कहा, 'मुझे उम्मीद है कि सितंबर के बाद हर महीने 100 बसें सरकार के खेमे में जुड़ेंगी. इसके अलावा एक हजार लो फ्लोर क्लस्टर बसों का वर्क अवार्ड कर दिया गया है. साथ ही इलेक्ट्रिक बसें भी आ रही हैं.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay