एडवांस्ड सर्च

नोटबंदी की वजह से मजदूरों की हो रही घर वापसी!

वीवी शर्मा एक सर्विस सेंटर चलाते हैं. जहां फिलहाल करीब 50 वर्कर काम करते हैं. कैश की कमी होने की वजह से अपने कर्मचारियों की छटनी करनी पड़ी और यही नहीं कुछ कर्मचारी छोड़ कर भी चले गए हैं.

Advertisement
प्रियंका सिंह [Edited by: लव रघुवंशी]नई दिल्ली, 01 December 2016
नोटबंदी की वजह से मजदूरों की हो रही घर वापसी! नया नोट

नोटबंदी की वजह से हर धंधे को परेशानी और मंदी के दौर से गुजरना पड़ रहा है. ऐसे में जो इंडस्ट्रीलिस्ट हैं उन्हें अपने वर्कर्स को सैलरी देने में बहुत मुश्किल हो रही है. सैलरी का टाइम हो चूका हैं और नोटबंदी 22 दिन बाद भी लोग कैश को लेकर परेशान हो ही रहे हैं. हलाकि लाइन कम हुई हैं, लेकिन खत्म होने का नाम नही ले रही हैं. ऐसे में इंडस्ट्रीलिस्ट अपने कर्मचारियों को वेतन देने को लेकर परेशान हैं.

वीवी शर्मा एक सर्विस सेंटर चलाते हैं. जहां फिलहाल करीब 50 वर्कर काम करते हैं. कैश की कमी होने की वजह से अपने कर्मचारियों की छटनी करनी पड़ी और यही नहीं कुछ कर्मचारी छोड़ कर भी चले गए हैं. वीवी शर्मा के मुताबिक वो सैलरी के रूप में पुराने 500 के नोट ही देने को मजबूर हैं.

इंडस्ट्रीलिस्ट सुनील की भी यही कहानी हैं. इनकी भी कार रेपरिंग की वर्कशॉप हैं, जहां छटनी के बाद 40 वर्कर काम करते हैं. वर्कर्स चेक से पेमेंट लेने को तैयार नही हैं और कैश उनके पास नही हैं, इसीलिए उनके कुछ वर्कर्स नौकरी छोड़कर चले गए हैं. इंडस्ट्रीलिस्ट परेशान हैं और इस दौर से जैसे तैसे गुजर रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay