एडवांस्ड सर्च

'बजरंगी भाईजान' बनी पुलिस, घर भूल गए मासूम को परिजनों से मिलवाया

खेल-खेल में अपना घर भूल चुके बच्चे को लेकर पुलिसकर्मी गली-गली घूमे और उसे परिजनों से मिलवा दिया. बताया जाता है कि सोम बाजार में भटकता हुआ बच्चा एक महिला को मिला था.

Advertisement
aajtak.in
चिराग गोठी नई दिल्ली, 22 February 2020
'बजरंगी भाईजान' बनी पुलिस, घर भूल गए मासूम को परिजनों से मिलवाया पुलिसकर्मी भटके बच्चे को लेकर गली-गली घूमे और उसे परिजनों से मिलवा दिया

  • खेल-खेल में अपना घर भूल गया था एक बच्चा
  • बच्चे को बाइक पर लेकर गली-गली घूमी पुलिस

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान जामिया यूनिवर्सिटी की लाइब्रेरी में हुई घटना हो या जेएनयू, दिल्ली पुलिस की छवि नकारात्मक बनती चली गई. लेकिन शुक्रवार को एक ऐसी घटना सामने आई, जिसने यह संदेश किया कि पुलिस वालों के सीने में भी दिल होता है. पुलिस बर्बर नहीं, मानवीय भी है. हुआ यह कि खेल-खेल में अपना घर भूल चुके बच्चे को लेकर पुलिसकर्मी गली-गली घूमे और उसे परिजनों से मिलवा दिया.

बताया जाता है कि सोम बाजार में भटकता हुआ बच्चा एक महिला को मिला. महिला ने भटक रहे बच्चे से जब उसका पता पूछा, तो वह नहीं बता पाया. महिला ने उसे बिस्कुट खिलाया और लेकर मोहन गार्डन पहुंची. महिला ने पुलिस को बताया कि उसे यह बच्चा सोम बाजार से मिला है और जब पता-ठिकाना पूछा, तो इस संबंध में वह कुछ नहीं बता पाया. इसके बाद वह बच्चे को पुलिस स्टेशन ले आई.

यह भी पढ़ें- साली की शादी से पत्नी-बच्चों के साथ घर लौट रहा था ब‍िजनेसमैन, 3 द‍िन बाद म‍िली स‍िर्फ कार

मोहन गार्डन एसएचओ के तौर पर तैनात ट्रेनी आईपीएस अक्षत कौशल ने बच्चे को उसके माता-पिता तक सुरक्षित पहुंचाने की जिम्मेदारी एएसआई सुरेश कुमार और कॉन्स्टेबल हेतराम को दी. एएसआई सुरेश ने बच्चे के माता-पिता का पता लगाने के लिए प्रयास शुरू किए. उन्होंने बच्चे को बाइक पर लेकर कई इलाकों में घूमना शुरू किया. वे लोग गली-गली घूमे.

यह भी पढ़ें- पांच वर्षीय बच्ची को अगवा कर पत्थरों से कुचला, दूसरे दिन मिला शव

उत्तम नगर के कबाड़ी रोड पर कुंदन कुमार नाम के एक व्यक्ति ने बच्चे को पहचान लिया. कुंदन ने बताया कि वह बच्चे के पड़ोस में ही रहता है. इसके बाद पुलिस की टीम उत्तम नगर के ओम विहार पहुंची और उसे उसके माता-पिता को सौंप दिया. बताया जाता है कि बच्चे के पिता नाई हैं. तीन बेटियों के बीच इकलौते बेटे के भटकने से परेशान मां की आंखों से आंसू छलक आए. बताया जाता है कि वह खेलने के लिए घर से निकला था और अपने घर का रास्ता भटक कर घर से कई किलोमीटर दूर चला गया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay