एडवांस्ड सर्च

संसद में उठा दिल्ली में तीन बच्चियों की भूख से मौत का मामला

3 बच्चों की मौत ने आम आदमी पार्टी के दावों की पोल खोल दी है. दिल्ली की आप सरकार संवेदनहीन है. रमेश बिधूड़ी ने कहा कि आम आदमी पार्टी को सरकार को रहने का कोई अधिकार नहीं है.

Advertisement
aajtak.in
अशोक सिंघल / देवांग दुबे गौतम नई दिल्ली, 26 July 2018
संसद में उठा दिल्ली में तीन बच्चियों की भूख से मौत का मामला दिल्ली में भूख से हुई 3 बहनों की मौत

दिल्ली में भूख से तीन बहनों की मौत का मुद्दा गुरुवार को संसद में भी गूंजा. शून्य काल में लोकसभा में इस मुद्दे को उठाते हुए बीजेपी सांसद रमेश बिधूड़ी ने कहा कि यह बहुत ही चिंता की बात है कि दिल्ली जैसे शहर में भूख के कारण 3 बच्चों की मौत हो गई है, लेकिन आम आदमी पार्टी की सरकार हाथ पर हाथ रखे बैठी है. उनको कोई भी फिक्र नहीं है.

बीजेपी सांसद ने कहा कि 3 बच्चों की मौत ने आम आदमी पार्टी के दावों की पोल खोल दी है. दिल्ली की आप सरकार संवेदनहीन है. रमेश बिधूड़ी ने कहा कि आम आदमी पार्टी को सरकार में रहने का कोई अधिकार नहीं है.  उन्होंने कहा कि लोगों तक राशन पहुंचाने की आम आदमी पार्टी की सरकार लाख दावे कर रही है,  लेकिन राशन लोगों के घरों तक नहीं पहुंच पाता है. उन्होंने कहा कि इस घटना के लिए केजरीवाल सरकार को माफ नहीं किया जा सकता है.

रमेश बिधूड़ी के बाद कांग्रेस सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने भी तीन बच्चियों की भूख से हुई मौत का मामला लोकसभा में शून्य काल के दौरान उठाया.  उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य सरकार की लड़ाई में दिल्ली की जनता पिस रही है. उनका कोई भला करने वाला नहीं है.

उन्होंने कहा कि दिल्ली में दोनों की लड़ाई के चलते जनता के हित के काम नहीं हो पा रहे हैं. कुछ नहीं किया जा रहा है. दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि यह बिल्कुल दिल्ली के अंदर की घटना है कोई दूरदराज का मामला नहीं है, लेकिन ऐसी घटनाओं पर किसी का ध्यान नहीं जाता. हमारी भी दिल्ली में सरकार रही है, तब ऐसी कोई घटना सुनने में नहीं आई. दीपेंद्र हुड्डा का कहना है कि अगर केंद्र और प्रदेश सरकार कुछ कर रही होती तो इस तरीके से भूख से 3 बच्चों की मौत न होती.

उधर बहुजन समाजवादी पार्टी के सांसद सतीश मिश्रा ने भी इस मामले को राज्यसभा में उठाया. उन्होंने कहा कि यह बहुत ही दर्दनाक और शर्मनाक घटना है. मामला में संसद में उठने के बाद केंद्रीय मंत्री राव इंद्रजीत ने कहा कि हम इस घटना की रिपोर्ट मंगवाकर उचित कार्रवाई करेंगे.

आपको बता दें कि पूर्वी दिल्ली के मंडावली इलाके में एक ही परिवार की तीन सगी बहनों की भूख से मौत हो गई थी. बताया जा रहा है कि मंगलवार की दोपहर पड़ोस में रहने वाले शख्स ने देखा कि बच्चियों की हालत खराब थी. वे पानी मांग रही थी. उस शख्स ने उन तीनों को पानी  तभी अचानक तीनों बच्चियां उल्टी करने लगी. पड़ोसी ने तुरंत उन्हें अस्पताल पहुंचाया लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी. लाल बहादुर अस्पताल के डॉक्टर ने उन्हें मृत घोषित कर दिया. मरने वाली बच्चियों की पहचान शिखा (8) मानसी (4) और 2 साल की पारुल के रूप में हुई है. बच्चियों का पिता भी मंगलवार की सुबह से लापता है. बताया जा रहा है कि वह घर से काम ढूंढने के लिए निकला था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay