एडवांस्ड सर्च

दिल्ली: 6 लाख आया पानी का बिल, जैकेट पर रसीद लगाकर प्रदर्शन

जल बोर्ड के सदस्य जय प्रकाश का कहना है कि मुख्यमंत्री चाहते हैं कि जल बोर्ड के चेयरमैन होने के नाते वो ऐसा रिपोर्ट कार्ड प्रस्तुत करें कि उनके कार्यकाल में जल बोर्ड का मुनाफ़ा करोड़ों रुपया बढ़ गया है. लेकिन मुख्यमंत्री को इस बात से बिलकुल फर्क नहीं पड़ता है कि गरीबों के घरों में पानी का लाखों रुपया का बिल आ रहा है.

Advertisement
aajtak.in
अंकित यादव नई दिल्ली, 12 February 2019
दिल्ली: 6 लाख आया पानी का बिल, जैकेट पर रसीद लगाकर प्रदर्शन फोटो- आजतक

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का चुनाव के वक्त किया हुआ वादा तो आपको याद होगा जिसमें कहा गया था कि बिजली हाफ और पानी माफ. सोमवार को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जब दिल्ली सचिवालय में जल बोर्ड की मीटिंग ली तो जल बोर्ड के सदस्य ही मुख्यमंत्री का अनोखे ढंग से विरोध करते नज़र आए.

जल बोर्ड के दो सदस्यों ने लोगों के घरों में आए पानी के लाखों रुपये के बिल वाली जैकेट पहन कर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और जल बोर्ड के कामकाज का विरोध किया. बीजेपी नेता जयप्रकाश और सत्यपाल मलिक जल बोर्ड के चुने हुए मेंबर है, सोमवार दोपहर जल बोर्ड की बैठक में जब अरविंद केजरीवाल पहुंचे तो उन्होंने सीएम का विरोध किया. बता दें कि मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल दिल्ली जल बोर्ड के चेयरमैन हैं.

दो लाख से 6 लाख तक आए पानी के बिल

हैरानी की बात है कि कुछ लोगों के घरों में पानी के बिल छह लाख तक आए हैं, हालांकि ये काफी समय के पेंडिंग बिल भी हैं लेकिन जल बोर्ड के सदस्यों का कहना है कि मुख्यमंत्री आमतौर पर हर साल पुराने बिलों को माफ करने की स्कीम लाते थे लेकिन बीते वर्षों से ये स्कीम रोक दी गई है क्योंकि मुख्यमंत्री जल बोर्ड का राजस्व बढ़ाना चाहते हैं.

जल बोर्ड के सदस्य जय प्रकाश का कहना है कि मुख्यमंत्री चाहते हैं कि जल बोर्ड के चेयरमैन होने के नाते वो ऐसा रिपोर्ट कार्ड प्रस्तुत करें कि उनके कार्यकाल में जल बोर्ड का मुनाफ़ा करोड़ों रुपया बढ़ गया है. लेकिन मुख्यमंत्री को इस बात से बिलकुल फर्क नहीं पड़ता है कि गरीबों के घरों में पानी का लाखों रुपया का बिल आ रहा है.

जैकेट में सिलवा कर आए बिल!

दिल्ली में बीते कई दिनों से जल बोर्ड के सदस्य जो कि विपक्षी पार्टियों के होते हैं, लगातार इस विषय को उठा रहे हैं. जल बोर्ड के दूसरे सदस्य और दक्षिणी दिल्ली नगर निगम के डिप्टी मेयर सतपाल मलिक का कहना है कि लोगों की भीड़ रोजाना उनके दफ्तर में बढ़े हुए बिल को लेकर शिकायत करती है लेकिन मुख्यमंत्री जल बोर्ड के चेयरमैन होने के बावजूद हमारी कोई भी समस्याओं की सुनवाई नहीं करते हैं. ऐसे में मजबूरन उन्हें जल बोर्ड की बैठक में इस तरीके की हरकत करनी पड़ी ताकि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का ध्यान आकर्षित कर सकें.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay